अब बहरीन जाकर देश का पताका फहराएंगे शैलेश

लाइव सिटीज डेस्क/आरा (पुष्कर पाण्डेय): विदेशों में जाकर यदि सम्मान मिले और देश का नाम सबसे ऊंची श्रेणी में रखा जाए तो इससे बड़ी बात और क्या होगी और यही हो रहा है शैलेश के साथ जो नित्य नई ऊंचाइयों को छूता जा रहा है.
पढाई के साथ-साथ दूसरो के लिए जीता है शैलेश
आम छात्रों की तरह महाराजा कॉलेज में पढ़ने वाले शैलेश ने कॉलेज स्तर पर आयोजित होने वाले राष्ट्रीय सेवा योजना से जुड़ा तो फिर कभी भी पीछे मुड़कर नही देखा. स्वयंसेवक होकर सामाजिक कुरूतियों को दूर करने के लिए तथा अपने समाज को सुदृढ़ करने हेतु शैलेश ने अपना अभियान जारी रखा.
Aarrah-ka-laal
कई तरह के सामाजिक कार्यो में लिया बढ़ चढ़कर भाग
शैलेश, वह बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, मतदाता जागरूकता कार्यक्रम, निशुल्क शिक्षा अभियान, बाल मजदूरी जागरूकता अभियान, स्वच्छता अभियान, बेटी है तो कल है कार्यक्रम, रक्तदान कार्यक्रम, बाढ़ पीडितो हेतु मदद और भी कई तरह के उत्कृष्ट कार्य कर चुके है.
छोटे से किसान का लड़का है.
मूल रूप से बक्सर जिले के ब्रह्मपुर प्रखंड के जवही जगदीशपुर के श्री ओमप्रकाश राय के बड़े लड़के है, पिता जी एक छोटे से किसान तथा माता उषा देवी गृहणी है. वहीं दादा कपिल मुनि राय शिक्षक थे. पांच भाइयों में शैलेश का दूसरा स्थान है.
बधाई देने वालों का लगा रहा जमावड़ा
जैसे ही सूचना मिली की शैलेश का चयन बहरीन के लिए हुआ है घर में ख़ुशी का माहौल बन गया को बधाई देने का सिलसिला जो सुबह से शुरू हुआ व रात्रि पर कब जारी रहा. कार्यक्रम समन्यक डॉ प्रसुंजय कुमार सिन्हा, क्षेत्रीय निदेशक दीपक कुमार, आलोक कुमार सिंह, प्राचार्य डॉ राजेंद्र प्रसाद सिंह, डॉ विकाश चंद्र, डॉ नरेंद्र प्रताप पालित, डॉ ओमप्रकाश राय, डॉ दिनेश प्रसाद सिन्हा, अभय कुमार मिश्रा तथा दोस्तों में जसीम एक़बाल, आदि ने बधाई दिया.
अपनी संस्कृति को बहरीन में जिन्दा रखेंगे शैलेश
वहीं इस मौके पर शैलेश ने बताया की बहरीन जाकर अपने देश की संस्कृति और सभ्यता को वहां के लोगो के बीच प्रचार-प्रसार करूँगा. वाकई में यह बहुत ही ख़ुशी का पल है मेरे जीवन के लिए जो मुझे अपने देश का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *