#Justice4TejBahadur : ‘जवान ने मांगी रोटी तो छिन गई नौकरी’

लाइव सिटीज डेस्क : फेसबुक पर वीडियो पोस्ट करके खराब खाने की शिकायत करने वाले सीमा सुरक्षा बल के जवान तेज बहादुर यादव को नौकरी से निकाल दिए जाने के बाद सोशल मीडिया पर लोग अपनी राय रख रहे हैं. ट्विटर पर #Justice4TejBahadur यानी तेजबहादुर को इंसाफ मिले टॉपिक के हैशटैग लगातार ट्रेंड हो रहे हैं.

इस साल की शुरुआत में तेज बहादुर यादव ने सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में सीमा पर तैनात जवानों को दिए जाने वाले खाने की गुणवत्ता पर सवाल उठाया था. उनकी ये पोस्ट वायरल हो गई थी. उसके बाद तेज बहादुर यादव के खिलाफ बीएसएफ का अनुशासन तोड़ने के लिए जांच शुरू की गई थी. बीएसएफ ने जांच के बाद तेज बहादुर यादव को नौकरी से निकाल दिया.

इस फैसले के बाद तेज बहादुर की पत्नी शर्मिला यादव का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें वो बता रही हैं, ‘तेज बहादुर का कोर्ट मार्शल हो गया है, वो वापस आ रहे हैं. उन्होंने जवानों के हित में आवाज उठाई थी. देश को अपना खाना दिखाया था. क्या गलती थी उनकी जो अभी 20 साल की नौकरी बची थी और उन्हें निकाल दिया गया. इसे देखकर तो अब कोई भी मां अपने बच्चे को फौज में नहीं भेजेगी.’

उसके बाद सोशल मीडिया पर कई लोग तेज बहादुर के समर्थन में आ गए.

शर्मिला के फ़ेसबुक पेज पर संजय यादव नाम के उनके फ़ॉलोअर लिखते हैं, “बीएसएफ़ अधिकारियों और भारत सरकार का बहुत दुःखद फैसला है जिन्होंने तेज बहादुर जी जैसे ईमानदार, देशभक्त इंसान के प्रति ये फैसला लिया है. हमें गर्व है ऐसे सच्चे वीर पुरुष पर”

@sandeepsingh844 ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, “एक और व्हिसलब्लोअर को सज़ा दी गई और हमारे पीएम कहते हैं कि हर भारतीय वीआईपी है.”

@EarthyyMermaid ट्वीट करती हैं, “ओ बहादुर क्यों खोली तूने आवाज बहरी है ये सरकार.”

@Rigged_EVM के ट्विटर हैंडल से लिखा गया, “शहीद दिवस पर बस फूलों की बारिश करो और जवानों को खाना मत दो.”

कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल @INCIndia से लिखा, “दुख की बात है तेज बहादुर को इंसाफ नहीं मिला.”

@MehekF लिखती हैं, “कश्मीर में सेना के हालात पर तो भक्त ख़ूब रोना रोते हैं और यहां अपने लिए अच्छे खाने की मांग करने वाले सिपाही को हटा दिया जाता है तो सब मौन हैं.”

ऐसा नहीं है कि सभी लोग तेज बहादुर के साथ ही हैं. उन्हें ट्विटर पर विरोध का सामना भी करना पड़ रहा है.

@KVanaik ने लिखा, “मैं तेज बहादुर जी का सपोर्ट तो करता हूं लेकिन उन्हें इस तरह से हमारी फ़ौज की इमेज ख़राब नहीं करनी चाहिए थी.”

@iamvshukla ने लिखा, “तेज बहादुर जी थे तो जवान लेकिन उनके फ़ेसबुक पोस्ट देखिए. पक्के राजनेता की तरह.”

@Lt_Anaya लिखते हैं, “जो भी तेज बहादुर के लिए न्याय मांग रहे हैं उन्हें पता होना चाहिए कि उन्होंने सैन्य बलों के कोड ऑफ़ कंडक्ट को तोड़ा है. बेवजह सरकार को इसके लिए ज़िम्मेदार ना ठहराएं.”

यह भी पढ़ें- खराब खाने की शिकायत निकली झूठी, जवान तेज बहादुर BSF से बर्खास्त

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *