श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान यज्ञ में उमड़ रहे श्रद्धालु, भक्तिमय हुआ माहौल

बांका : ईश्वर प्राप्ति का सरलतम मार्ग है भक्ति और भक्ति के लिए श्रीमद्भागवत कथा से बड़ा मार्गदर्शक और कोई नहीं. इसलिए श्रीमद्भागवत कथा श्रवण मात्र से ईश्वर प्राप्ति का मार्ग प्रशस्त होता है और भक्त मोक्ष को प्राप्त होते हैं. बांका सदर प्रखंड के मंझियारा गांव में गुरुवार से आरंभ हुए श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान सप्ताह के पहले दिन प्रवचन करते हुए भागवताचार्य महेशानंद जी महाराज ने ये बातें कहीं. उन्होंने कहा कि श्रीमद्भागवत कथा श्रवण का महत्व योग से कतई कम नहीं, बल्कि बढ़कर है.

इस अवसर पर महेशानंद जी महाराज ने कहा कि श्रीमद्भागवत महापुराण सनातन जीवन दर्शन की संपूर्ण एनसाइक्लोपीडिया है. खास बात यह भी है कि आप जितनी बार श्रीमद्भागवत कथा का श्रवण करें, आप खुद को ईश्वर के उतना ही निकट पाते चले जाएंगे. जीने की राह दिखाने वाले इस सनातन वांड्गमय में जीवन के सभी पहलुओं का संपूर्ण सार निहित है, जो अंततः हमें ईश्वर तक पहुंचाता है.

इससे पहले बुधवार को आयोजन के निमित्त कलश शोभायात्रा निकली. शोभायात्रा में आसपास के कई गांवों के ग्रामीण महिला, पुरुष एवं बच्चे शामिल हुए. करीब 7 किलोमीटर पैदल चलते हुए बांका पहुंच कर स्थानीय तारा मंदिर से जल कलश भरने के बाद श्रद्धालु पुनः पैदल आयोजन स्थल पहुंचे, जहां कलश पूजन के बाद श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान यज्ञ का शुभारंभ किया गया.

इस आयोजन में आसपास के विभिन्न गांवों के श्रद्धालु बड़ी संख्या में भाग ले रहे हैं. गुरुवार को पतंजलि योग समिति बांका के योग प्रचारक अभिषेक कुमार ने आयोजन के दौरान ग्रामीणों को योग एवं प्राणायाम के साथ-साथ गीता में योग की व्याख्या की विशद जानकारी दी.

श्रीमद्भागवत कथा एवं कलश शोभायात्रा में पतंजलि योग समिति के योग प्रचारक अभिषेक कुमार, प्रभास, राज कुमार विश्वास, सागर कुमार, आयोजक राजीव रंजन शर्मा, सामाजिक कार्यकर्ता शोले सिंह, पंकज मांझी, टिंकू दत्ता, पंकज दत्ता तथा पीतांबर बगवै आदि की सक्रिय भागीदारी रही.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*