फेसबुकिया प्यार : हथकड़ी पहने जेल से पहुंचा भागलपुर का दूल्हा और रचायी शादी

लाइव सिटीज डेस्क : हेडिंग पढ़ कर शायद आपको थोड़ा अटपटा लगे. लेकिन, यही सच है. हथकड़ी पहने ही दूल्हा पहुंचा मैरिज रजिस्ट्रार आॅफिस और अपनी प्रेमिका से शादी रचायी. मामला तो झारखंड के धनबाद जिले का है, लेकिन दूल्हा बिहार के भागलपुर स्थित कहलगांव का रहनेवाला है. फिलहाल वह 70 दिनों से जेल में बंद है और अब अपनी जमानत का इंतजार कर रहा है. उधर प्रेमिका अपने प्यार की जीत पर काफी खुश है. उसे अफसोस भी है कि उसे अपने हक के लिए यह सब करना पड़ा.

पहले प्यार, फिर तकरार, अब समझौता… इस फेसबुकिया प्यार की लब्बोलुआब कुछ ऐसी ही कहानी है. दरअसल बात वर्ष 2012 की है. भागलपुर के कहलगांव में एनटीपीसी में काम करनेवाले इंजीनियर साहब को फेसबुक पर धनबाद की रहनेवाली सुदिप्ती कुमारी से दोस्ती हो गयी. यह दोस्ती कब प्यार में बदल गया किसी को पता ही नहीं चला. इंजीनियर रितेश का यह फेसबुक प्यार धीरे-धीरे चैटिंग से डेटिंग में बदल गया. लड़का कहलगांव से धनबाद पहुंचने लगा. लड़की एक कमरे में किराये के मकान में रहती थी. रितेश व सुदिप्ती दोनों साथ में जमशेदपुर, रांची, पटना आदि स्थानों पर भी घूमने गये. इसी बीच प्रेमिका के कहने पर प्रेमी ने उसकी मांग में सिंदूर भी डाल दिया और दोनों पति-पत्नी के रूप में रहने लगे.

 

Fecebook love

अचानक लड़का ने शादी से इनकार कर दिया. लड़का कहने लगा कि वह उससे शादी करेगा, तो उसकी मां आत्महत्या कर लेगी. लड़की ने काफी मनाया, लेकिन रितेश मानने को तैयार नहीं था. लड़की चूंकि आदिवासी थी, सो इससे तंग आकर उसने एससी/एसटी थाने में शिकायत कर दी. धनबाद पुलिस जांच में कहलगांव पहुंची और वहां से लड़के को गिरफ्तार कर धनबाद ले आयी. दोनों में बातचीत करायी गयी, लेकिन लड़का शादी के लिए तैयार नहीं हुआ. अंत में उसके खिलाफ यौनशोषण का मुकदमा दर्ज कर उसे जेल भेज दिया गया. पुलिस चार्जशीट भी दायर कर चुकी है और उसकी जमानत अर्जी सत्र न्यायालय से खारिज हो चुकी है. रितेश फरवरी से धनबाद की जेल में बंद है.

केस में राहत नहीं मिलता देख रितेश प्रेमिका से शादी करने को तैयार हो गया. इसे लेकर उसने कोर्ट से गुहार लगायी. कोर्ट के आदेश पर पुलिस कस्टडी में मैरिज रजिस्ट्रार के सामने पेश किया गया. इसके पूर्व 16 मार्च को विवाह निबंधन के लिए दोनों ने आवेदन दिया था. पुलिस कस्टडी में ही बुधवार को रितेश व सुदिप्ती की शादी मैरिज रजिस्ट्रार आॅफिस में हुई. हाथ में हथकड़ी लगाए रितेश ने कागजात की कार्यवाही पूरी की. शादी की इस पूरी प्रक्रिया में सुदिप्ती भी साथ में थी. दोनों ने आवेदन पर हस्ताक्षर किये. गवाह के रूप में रितेश की माता अनिता देवी व सुदिप्ती के पिता हराधन महली मौजूद रहे व सिग्नेचर कर विवाह की प्रक्रिया पूरी की. इसके बाद रितेश वापस जेल लौट गया. अब रितेश के जमानत की प्रक्रिया पूरी की जायेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *