इंसानियत की मिसाल : मुस्लिम युवक के सीने में धड़क रहा हिंदू का दिल…

लाइव सिटीज डेस्क : ऐसे समय में जब मुस्लिम और हिंदू समुदायों के बीच नफरत फैलाने की कोशिशों में देश विरोधी ताकतें जुटी हुई हैं. हमारे देश में जो लोग धर्म के नाम पर नफरत फैलाते हैं, इंसानियत की यह मिसाल उनको भी सोचने पर मजबूर कर देगी. धार्मिक भेदभाव के मामलों के बीच एक ऐसी कहानी भी है जो इंसानियत के लिए किसी मिसाल से कम नहीं है. मामला गुजरात का है जहां एक मुसलमान के सीने में हिंदू का दिल ट्रांसप्लांट किया गया है. दरअसल, गुजरात के नवसारी जिले के 21 साल का अमित एक सड़क हादसे में बुरी तरह से जख्मी हो गया था. हादसे के बाद उसे इलाज के लिए सूरत के अस्पताल ले जाया गया. अस्पताल पहुंचने के बाद उसका ऑपरेशन हुआ जो असफल रहा. डॉक्टरों ने उसे ब्रेनडेड घोषित कर दिया था, जिसके बाद अमित के घरवालों ने उसका अंग दान करने का फ़ैसला लिया.

studio11

ऐसे में एक एनजीओ की मदद से पता चला कि अहमदाबाद के सोहेल नाम के मुस्लिम युवक को दिल की जरूरत है. अमित का परिवार पहले थोड़ा झिझका, लेकिन बाद में उन्होंने दिल ट्रांसप्लांट के लिए हामी भर दी. प्रशासन की मदद से अमित का दिल स्पेशल चार्टर के ज़रिए सूरत से अहमदाबाद ले जाया गया. इस दौरान पूरे रास्ते में ग्रीन कॉरीडोर बनाया गया. अमित का दिल 85 मिनट में अहमदाबाद पहुंच सका. फिर एक निजी अस्पताल में सोहेल का हार्ट ट्रांसप्लांट हुआ.

मिली जानकारी के अनुसार गत 12 जुलाई को नवसारी के रहने वाले युवक अमित कुमार सड़क हादसे के शिकार हो गये थे. दुर्घटना के बाद जब अमित को सूरत के एक निजी अस्पताल में दाखिल करवाया गया तो डाक्टरों ने उन्हें ब्रेन डेड घोषित कर दिया. इससे अमित के परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा.

एक मां एवं भाई के सामने उसका बेटा और छोटा भाई इस दुनिया से चला जाये, तो वह घड़ी उस परिवार के लिए काफी दुखद एवं कष्टकारी होती है. इस बीच चिकित्सकों ने देखा कि अमित का दिल एवं उसके अन्य चार अंग पूरी तरह से स्वस्थ हैं. चिकित्सकों ने अमित के परिवार वालों से अमित के अंगदान की बात कही. चिकित्सकों के सुझाव को अमित की मां भी मान गयीं और अमित के अंगों को दान करने का फैसला किया. इसी क्रम में चिकित्सकों ने अमित का दिल दिल्ली के रहने वाले सोहल के शरीर में लगाकर सोहल को नयी जिंदगी दी है.

यह भी पढ़ें – बेमिसाल : श्रावणी मेले में रुखसार बहा रही हैं मिल्लत की बयार

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*