पटना के अस्‍पताल में छापा मार बंधक बनी महिला की लाश को पप्‍पू यादव ने छुड़ाया

मृतका शमीना खातून के परिजनों से मिलते पप्पू यादव

लाइव सिटीज, पटनाः मधेपुरा के सांसद व जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्‍ट्रीय संरक्षक राजेश रंजन उर्फ पप्‍पू यादव ने आज गुरुवार 7 दिसंबर को पटना के एक निजी अस्‍पताल में फिर से रेड मारा . सीतामढ़ी की रहने वाली एक महिला की लाश को पटना के बाईपास रोड में स्थित Sharnum Hospital ने पैसे के लिए बंधक बना रखा था . परेशान परिजनों ने मदद के लिए पप्‍पू यादव को कॉल किया था . इसके बाद वे दल-बल के साथ अस्‍पताल पहुंचे . पप्‍पू यादव के अस्‍पताल में आते ही हड़कंप मचा और परिजनों को शमीना खातून की लाश सुपुर्द कर दी गई .

पटना के Sharnum Hospital पहुंचे मधेपुरा सांसद पप्पू यादव

शमीना खातून सीतामढ़ी के मजदूर परिवार की महिला थी . उम्र 38 साल . पति खुद बीमार है . पत्‍नी की देखभाल करने पटना आने की स्थिति में भी नहीं थे . परिवार की गरीबी के कारण छोटा बेटा मुंबई जाकर किसी सब्‍जी विक्रेता के यहां हेल्‍पर का काम करता है .

पहले सीतामढ़ी में हुआ था आपरेशन

शमीना खातून का आपरेशन पहले सीतामढ़ी में डा. मुकेश कुमार ने किया था . पटना के अस्‍पताल में शव को छुड़ाने के लिए परेशान रहे शमीना खातून के ग्रामीण कुंदन कुमार ने बताया कि सीतामढ़ी के डाक्‍टर के अस्‍पताल का उद्घाटन संडे को होना था . पर उसने पहले ही फ्राइडे को आपरेशन कर दिया . गॉल ब्‍लाडर में पथरी की शिकायत थी शमीना खातून को.

मृतक महिला के परिजनों से मिलते पप्पू यादव

कुंदन बताते हैं कि रात को सीतामढ़ी में ही शमीना खातून की सेहत बिगड़ गई . इंफेक्‍शन फैलने की बात कह सीतामढ़ी के डाक्‍टर ने निजी एंबुलेंस से पटना रेफर कर दिया . परिवार वाले पीएमसीएच ले जाना चाहते थे,पर एंबुलेंस वाले ने बाईपास रोड के Sharnum Hospital में पहुंचा दिया . अस्‍पताल 44 हजार रुपये वसूल चुका था . पटना में बच्‍चे की मौत के बाद अस्‍पताल में मां थी बंधक , पप्‍पू यादव के रेड से मिली छुट्टी

वेंटिलेटर पर थी शमीना खातून

Sharnum Hospital का कहना था कि रोगी वेंटिलेटर पर है . अस्‍पताल का बिल बढ़ता जा रहा था . परिवार वाले दो दिनों से शमीना खातून को पीएमसीएच ले जाना चाहते थे, पर अस्‍पताल ले जाने देने को तैयार नहीं था . यह अस्‍पताल पटना के किसी संजीत राय नामक व्‍यक्ति का बताया जा रहा है .

अस्‍पताल शमीना खातून के परिजनों से लगातार और पैसों की मांग कर रहा था . लेकिन परिजनों के पास और पैसे नहीं थे . इसी क्रम में आज गुरुवार को तड़के सुबह अस्‍पताल ने अटेंडेंट को शमीना खातून की मौत की खबर दी . परेशान परिवार वाले जब थोड़ा संभले तब अस्‍पताल ने कहा कि कुल बिल 1 लाख 5 हजार रुपये का है . बिना पूर्ण भुगतान लाश नहीं मिलेगी .

Sharnum Hospital में एंबुलेंस के पास खड़े पप्पू यादव

तब मदद को आगे आये पप्‍पू यादव

कुंदन कुमार ने कहा कि हम सबों ने पप्‍पू यादव की मदद के बारे में सोशल मीडिया से जाना था . मिलने को उनके घर पर गये . वे किसी कार्यक्रम में सुबह में ही बाहर निकल गये थे . फिर फोन पर बात की . वे बोले – मैं आता हूं अस्‍पताल . परेशान मत होइए . कुकर्म वाले होली क्रॉस स्‍कूल पहुंचे पप्‍पू यादव ,कहा – मैनेजमेंट ही गुंडा है, सोंट दो

इसके बाद पप्‍पू यादव अस्‍पताल आए . उनके आते ही अस्‍पताल वालों ने रंग बदलना शुरु कर दिया . अब टेढ़ी बातें नहीं करने लगे . पप्‍पू यादव ने कहा – अस्‍पताल लाश को बंधक बना कर नहीं रख सकता . इसके बाद अस्‍पताल ने बिना पैसे की मांग किए लाश हमलोगों को सौंप दिया . अब शव को लेकर वापस सीतामढ़ी जा रहे हैं . ध्‍यान रहे,पिछले पखवारे भी पप्‍पू यादव ने पटना के एक और अस्‍पताल से बंधक बनी मां को छुड़वाया था .

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*