जहरीली शराब : बिहार की सियासत गरम, नीतीश कुमार से सीधा सवाल

tejashwi yadav pappu yadav

पटना : बिहार के रोहतास जिले में जहरीली शराब से हुई पांच लोगों की मौत ने बिहार की सियासत को गरमा दिया है . विपक्ष के सीधे निशाने पर मुख्‍य मंत्री नीतीश कुमार हैं . हां, भाजपा अब चुप है,क्‍योंकि सरकार में साथ है . बदले समय में राजद हमलावर है . मधेपुरा के सांसद पप्‍पू यादव पहले की तरह तीखे सवाल पूछ रहे हैं . जनहित लोकतांत्रिक पार्टी ने भी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है .

तेजस्‍वी यादव,राजद
बिहार के पूर्व डिप्‍टी सीएम तेजस्‍वी यादव ने कहा कि सीधे नीतीश कुमार जिम्‍मेवार हैं . उन्‍होंने जनमत को धोखा देकर वैसे लोगों के साथ सरकार बनाई,जो शराबबंदी कानून को काला कानून कहते थे . पुलिस महकमा नीतीश कुमार के पास है,फिर यह भी सच है कि बगैर पुलिस की सांठ-गांठ के जहरीली शराब नहीं बिकती . तो नीतीश कुमार जिम्‍मेवारी से कैसे बच सकते हैं .


तेजस्‍वी ने कहा कि बिहार में शराबबंदी कानून को नीतीश कुमार ने तब लाया था,जब वे स्‍वयं को पीएम मैटेरियल मानते थे . दूसरे प्रदेशों में जाकर सभा करते थे और बिहार की तरह शराबबंदी की मांग करते थे . लेकिन अब सब कुछ भूल गये . झारखंड और यूपी में भी नहीं जा सकते . जिनके खिलाफ लड़ना था,उनकी गोद में बैठ गये . तो फिर,ऐसे कांड तो होंगे हीं .

पप्‍पू यादव,जाप
मधेपुरा के सांसद और जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्‍ट्रीय संरक्षक राजेश रंजन उर्फ पप्‍पू यादव ने कहा है कि जहरीली शराब कांड से बिहार सरकार नहीं बच सकती . नीतीश कुमार को जवाब देना होगा . बिहार में कहीं भी शराबबंदी नहीं है . हां,अधिक रेट में शराब की होम डिलेवरी हो रही है . जहरीली शराब अलग से मिल रही है .

पप्‍पू ने कहा है कि बिहार में बहुत मजबूत शराब सिंडिकेट बना है . इसमें नेता-पुलिस-अधिकारी सभी शामिल हैं . पहले गोपालगंज में शराबबंदी कानून के तुरंत बाद मौत का तांडव हुआ था और अब रोहतास में हुआ है . तब भी जहरीली शराब के सौदागरों को कोई सजा नहीं मिली . आज फिर नहीं मिलेगी . मैं प्रभावित परिवारों से मिलने को जल्‍द जाऊंगा .

अनिल कुमार, जलपा
जनहित लोकतांत्रिक पार्टी के प्रदेश अध्‍यक्ष अनिल कुमार ने कहा है कि आम आदमी से शराब मिलने पर उसे जेल भेज दिया जाता है . अब मुख्‍य मंत्री नीतीश कुमार बताएं कि जहरीली शराब से हुई मौत के लिए किसे जेल भेजा जाएगा . थाना-सिपाही को सस्‍पेंड करने से काम नहीं चलने वाला . यह शराब मिलने का नहीं जहरीली शराब परोस कर हत्‍या करने का मामला है .

कुमार ने कहा कि बिहार में शराबबंदी कानून सिर्फ शरीफ लोगों को आक्रांत करने वाला कानून बनकर रह गया है . बाकी सभी जगहों पर शराब आसानी से मिल रही है . दाम अधिक है और शराब सिंडिकेट मालामाल हो रहा है . पुलिस वाले भी हिस्‍सा कमा रहे हैं .

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*