बोले शिवराज- ‘वॉशिंगटन से बेहतर है MP की सड़कें’, ट्विटर पर उड़ा मजाक

लाइव सिटीज डेस्क : मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्य प्रदेश की सड़कों को अमेरिका की सड़कों से बेहतर बताया है. हिंदुस्तान का दिल कहे जाने वाले मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री एमपी में निवेश बढ़ाने के उद्देश्य से अमेरिका दौरे पर हैं. शिवराज ने कहा कि जब मैं वाशिंगटन के एयरपोर्ट से बाहर निकला तो देखा कि मध्य प्रदेश की सड़कें अमेरिका से बेहतर है. साथ ही उन्होंने कहा कि किसी राज्य को बेहतर बनाने के लिए सड़कों को बेहतर बनाना जरूरी है. शिवराज सिंह ने कहा कि उनकी सरकार ने मध्य प्रदेश में पौने दो लाख किलोमीटर तक सड़कें बनाई है और गांवों को शहरों से जोड़ा है.

शिवराज सिंह चौहान ने कहा, ”मैं पिछले 12 साल से मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री हूं, मैं यह बात हमेशा से कहना चाहता था. बुनियादी इंफ्रास्ट्रक्चर के बिना कोई राज्य आगे नहीं बढ़ सकता. इसलिए सबसे पहले हमने सड़कें बनाईं. जब मैं यहां एयरपोर्ट पर उतरा और जब मैं सड़कों पर चल कर आया तो मुझे लगा कि मध्यप्रदेश की सड़कें अमेरिकी की सड़कों से ज्यादा बेहतर हैं.”

सोशल मीडिया पर शिवराज सिंह चौहान के इस बयान का लोगों ने जमकर मजाक उड़ाना शुरू कर दिया. मध्य प्रदेश की सड़कों को अमेरिका की सड़कों से बेहतर बताने पर ट्विटर पर लोगों ने तरह तरह की तस्वीर डालनी शुरू कर दी. सीएम शिवराज सिंह चौहान ने एमपी की सड़कों को भले ही अमेरिका की सड़कों से बेहतर बताया हो लेकिन आंकड़े कुछ और कहानी बयान करते हैं 2015 के एनसीआरबी के आंकड़ों के मुताबिक एमपी में रोज 112 सड़क हादसे होते हैं.

सड़क हादसे में रोज 27 लोगों की जान जाती है. इतना ही नहीं देश में सड़क हादसों के मामले में एमपी चौथे नंबर पर है. यही वजह है कि शिवराज के बयान के बाद ट्विटर पर #MPRoads ट्रेंड करने लगा और लोग शिवराज का मजाक बनाने लगे.

हेमा मालिनी के गाल जैसी सड़क

आपको बता दें कि बेहतर सड़कों के दावे राजनेताओं की तरफ से पहली बार नहीं किए गए हैं. जब लालू प्रसाद यादव बिहार के सीएम थे तब उन्होंने सूबे की सड़कों की तुलना दिग्गज अभिनेत्री और ड्रीम गर्ल हेमा मालिनी के गाल से की थी. तब हेमा मालिनी के गालों जैसी चिकनी सड़कों का उनका जुमला काफी चर्चित हुआ था, लेकिन लालू को अपने इस बयान पर खासी आलोचना झेलनी पड़ी थी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*