नौ करोड़ का फलाहारी भैंसा लेकर बिहार आये हैं केन्‍द्रीय मंत्री राधामोहन सिंह

मोतिहारी/पटना : गाय-भैंस की बातें सबसे अधिक राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद करते रहे हैं . बचपन में भैंस की सवारी से लेकर गाय का दूध दुहने तक . पर अभी चर्चा में हैं राधामोहन सिंह . वे भारत सरकार में कृषि मंत्री हैं . मोतिहारी से भाजपा सांसद हैं . ऐसे में,मोतिहारी का विशेष ख्‍याल तो रखते ही हैं . सो,नौ करोड़ का भैंसा भी अभी मोतिहारी में ही आया है . युवराज का बिहार आगमन दूसरी बार हुआ है .

राधामोहन सिंह के कृषि मंत्रालय ने मोतिहारी के डुमरिया घाट में पशु आरोग्‍य मेला का आयोजन किया है . उद्घाटन राधामोहन सिंह ने ही किया है . इस मेले में कई सौ पशु आये हुए हैं . लेकिन इन सबके बीच सबसे अधिक चर्चा नौ करोड़ के भैंसा ‘युवराज’ की हो रही है . मोतिहारी के पत्रकार आनंद प्रकाश भैंसा युवराज की कीमत सवा सात करोड़ रुपये बता रहे हैं,जबकि कुछेक इसकी कीमत नौ करोड़ तक बताते हैं .

हरियाणा से आया है भैंसा युवराज

करोड़पति भैंसा युवराज को हरियाणा के करनाल से लाया गया है . इसके मालिक कर्मवीर हैं . इस युवराज को भुर्रा प्रजाति का भैंसा बताया जाता है,जिसका नस्‍ल हरियाणा और पंजाब के कुछ इलाकों में मिलता है . पाकिस्‍तान में भी कहीं-कहीं इस नस्‍ल का भैंसा पाया जाता है .

एसी में रहता-चलता है युवराज

भैंसा युवराज 14 फीट लंबा और पांच फीट ऊंचा है . इसे गर्मी बहुत लगती है . सो,इसके रहने की व्‍यवस्‍था एसी कक्ष में की जाती है . कहीं आना-जाना भी एसी वाहन से ही होता है . खाने में युवराज बिलकुल फलाहारी है . रोज 20 किलो दूध पी जाता है . इसके अलावा पांच किलो सेब भी खाने को चाहिए . दूध और सेब के भोजन का हिसाब दैनिक पशु चारा से अलग है . समय-समय पर डाइटीशियन युवराज की फिटनेस के हिसाब से डायट चार्ट तैयार करते हैं .

मालिक को लाखों की कमाई कराता है

भैंसा युवराज सिर्फ खाता ही नहीं है,बल्कि अपने मालिक कर्मवीर के लिए साल में कोई चालीस लाख रुपये की बंदोबस्‍त भी करता है . दरअसल इस आमदनी का जरिया भैंसा युवराज का सीमेन है . कहा जाता है कि जिस पशु को युवराज का सीमेन मिल गया,वह अधिक दुधारु पशु के रुप में जन्‍म लेता है . सो,युवराज के मालिक कर्मवीर साल में हजारों पशुओं के लिए युवराज का सीमेन ठीक-ठाक कीमत लेकर बेचते हैं .

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*