बिहार को मिला कश्मीर विवाद सुलझाने का जिम्मा, मोदी ने दी जिम्मेदारी

SHARMA1
PM मोदी और गृह मंत्री राजनाथ सिंह के साथ दिनेश्वर शर्मा सबसे बाएं (फाइल फोटो)

नई दिल्ली : केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार कश्मीर विवाद को एक बार फिर बातचीत से सुलझाने की तैयारी में है. केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज राजधानी में सरकार के इस बड़े फैसले का ऐलान किया. इससे भी बड़ी बात है कि केंद्र सरकार ने कश्मीर मसले पर वार्ता के लिए अपना प्रतिनिधि एक बिहारी पुलिस अधिकारी को ही बनाया है. इस बिहारी पुलिस अधिकारी का नाम दिनेश्वर शर्मा है. शर्मा इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) के पूर्व प्रमुख भी रह चुके हैं.

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज दिल्ली में इसकी घोषणा करते हुए कहा कि जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर वहां के समाज के विभिन्न वर्गों से बातचीत की प्रक्रिया शुरू की जायेगी. इसके लिए दिनेश्वर शर्मा को भारत सरकार का प्रतिनिधि बनाया गया है. बता दें कि बीते साल हिजबुल कमांडर बुरहान वानी को सुरक्षा बलों द्वारा मार गिराये जाने के बाद घाटी में व्यापक पैमाने पर अशांति फैली थी. ऐसे में खुद गृह मंत्री राजनाथ सिंह एक राजनीतिक प्रतिनिधिमंडल के साथ विभिन्न पक्षों से वार्ता के लिए जम्मू कश्मीर गये थे. गौरतलब है कि  भाजपा के नेतृत्व वाली वर्तमान केंद्र सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर के लिए इस तरह से वार्ताकार नियुक्त करने की यह पहली पहल है.

अब वार्ता की इस नई प्रक्रिया में दिनेश्वर शर्मा के रोल के बारे में गृह मंत्री ने बताया कि शर्मा 1979 बैच के सीनियर आइपीएस अधिकारी हैं और उन्हें जम्मू कश्मीर का भी अनुभव है. शर्मा जम्मू कश्मीर में वार्ता के लिए विभिन्न पक्षों को स्वयं तय करेंगे. वे वहां के राजनीतिक वर्ग, अन्य संगठनों व समाज के अन्य वर्गों के प्रतिनिधियों से वार्ता करेंगे. ख़ास तौर पर युवाओं की अपेक्षाओं को विशेष तौर पर समझने की कोशिश करेंगे. सिंह ने बताया कि वार्ता के बाद वे केंद्र सरकार एवं जम्मू कश्मीर सरकार से उसे साझा करेंगे. साफ नीयत व नीति से वार्ता होगी और दिनेश्वर शर्मा को  अपने कामकाज के लिए पूरी आजादी होगी.

कौन हैं दिनेश्वर शर्मा

मूल रूप से गया के रहने वाले दिनेश्वर शर्मा केरल कैडर के आइपीएस अधिकारी हैं. वे बीते साल 31 दिसंबर 2016 को आइबी चीफ के पद से रिटायर हुए हैं. केंद्र के वार्ताकार के रूप में दिनेश्वर शर्मा की रैंक कैबिनेट सेक्रेटरी की होगी. उनकी पहचान एक ईमानदार, पारदर्शी एवं बहुत ही सरल स्वभाव के अधिकारी के रूप में रही है. शर्मा जब आईबी चीफ थे, तब म्यांमार में भारतीय सेना ने आतंकवादी ठिकानों पर हमला कर दर्जनों आतंकवादियो को मार गिराना था. पिछले साल पाकिस्तान में भारतीय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक के समय शर्मा ही आईबी प्रमुख थे.

(गया से पंकज कुमार के इनपुट पर आधारित)

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*