अब अखिलेश यादव की सांसद पत्नी की जांच में जुटीं सरकारी एजेंसियां…

लाइव सिटीज डेस्क : विपक्षी दलों के​ खिलाफ सरकारी एजेंसियों की जांच का सिलसिला फिलहाल थमता नजर नहीं आ रहा है. राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के परिवार पर सीबीआई, आयकर और ईडी की जांच और छापे की प्रक्रिया अभी चल ही रही है. नया मामला उत्तर प्रदेश से सामने आ रहा है. सपा के संरक्षक मुलायम सिंह की बहू और पूर्व सीएम अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव की जांच सीबीसीआईडी ने शुरू कर दी है. सीबीसीआईडी इस बात की जांच कर रही है कि आखिर कैसे डिंपल यादव लोकसभा के उपचुनाव में निर्विरोध निर्वाचित हो गईं थीं.

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्नी सांसद डिंपल यादव के निर्विरोध निर्वाचित होने के मामले में सीबीसीआईडी ने जांच शुरू कर दी है. जांच के लिए सीबीसीआइडी टीम ने डिंपल यादव के निर्वाचन क्षेत्र कन्नौज में डेरा डाल दिया है. रविवार को टीम ने कई मीडिया कर्मियों और राजनीतिक दलों से जुड़े लोगों के साथ ही स्थानीय नागरिकों के भी बयान दर्ज किए. रात तक टीम बयान लेने के लिए डटी रही. सीबीसीआइडी की रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को जल्द दी जाएगी. जांच के दायरे में कई अधिकारी भी हैं.

बता दें कि वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी को सूबे में जनता का भरपूर समर्थन मिला था. इसके बाद यहां से सांसद अखिलेश यादव को विधानसभा दल का नेता चुना गया. वह मुख्यमंत्री बने. इससे कन्नौज सीट खाली हो गई. इसी सीट से वर्ष 2012 में उनकी पत्नी डिंपल यादव को उपचुनाव में उतारा गया था.

नामांकन के अंतिम दिन तक किसी के पर्चा न दाखिल करने पर वह निर्विरोध निर्वाचित हो गईं थीं. इसको लेकर वोटर्स इंटरनेशनल पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष भरत गांधी ने कोर्ट में याचिका दायर कर आरोप लगाया था कि उनकी पार्टी समेत सभी प्रत्याशियों को बंधक बना लिया गया था.

कोई नामांकन दाखिल नहीं कर सका. कोर्ट के आदेश पर सीबीसीआइडी जांच शुरू की गई है. रविवार को सीबीसीआइडी कानपुर सेक्टर के निरीक्षक नवीन चंद्र कटियार व उनके सहयोगी सुबोध कटियार जिले में आए और बयान लिए. रात तक टीम जिले में घूमती रही. अलग-अलग दर्जन भर लोगों से बयान दर्ज किए गए. अब जांच रिपोर्ट के बाद आगे की कार्रवाई होगी. जांच टीम ने बताया कि बयान दर्ज किए जा रहे हैं, इससे ज्यादा जानकारी देने से इन्कार किया. गौरतलब है कि मौजूदा समय में भी डिंपल यादव कन्नौज से सांसद हैं.

यह भी पढ़ें :-
CM नीतीश के साथ बच्चे अच्छे नहीं लगते, इस्तीफा दें तेजस्वी वरना होंगे बर्खास्त
शरद यादव ने किया लालू का बचाव, तो उन्हें 2008 की याद दिलाने लगे सुमो

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*