CM का सभी SP को निर्देश – कोताही करने वाले थानेदारों पर करें कार्रवाई

फाइल फोटो

पटना : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज गुरुवार को सूबे की कानून-व्यवस्था पर हाईलेवल मीटिंग की है. मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, डीजीपी पीके ठाकुर, गृह विभाग के प्रधान सचिव आमिर सुबहानी, पुलिस मुख्यालय के आला अधिकारियोंके साथ हुई बैठक में मुख्यमंत्री ने सभीजिलों के एसपी को थाना स्तर तक जाकर अपराध के स्रोत तलाशने के निर्देश दिए गए हैं.

इस दौरान मुख्यमंत्री ने सभी एसपी को निर्देश दिया कि अगर थाना स्तर पर किसी भी तरह की कोताही है तुरंत कार्रवाई करें. एसपी के स्तर पर तैयार यह रिपोर्ट पुलिस मुख्यालय के स्तर पर देखी जाएगी.

आमिर सुबहानी ने दी जानकारी

बैठक के बाद गृह विभाग के प्रधान सचिव आमिर सुबहानी ने बताया कि अगर किसी जिले में अपराध का आंकड़ा बढ़ रहा है तो एसपी के स्तर पर यह देखा जाए कि अपराध का ग्राफ बढऩे में जिले के किस थाने का सबसे अधिक योगदान है. हत्या, दुष्कर्म, डकैती, महिलाओं के खिलाफ अत्याचार व कमजोर वर्ग पर हो रहे अत्याचार के मामले को प्रमुखता से देखा जाएगा. उन्होंने कहा कि सूबे में कुछ तरह के अपराधों में कमी तो कुछ अपराधों में वृद्धि हुई है.

वहीँ ADG मुख्यालय संजीव कुमार सिंघल का कहना है कि सूबे में अपराध ग्राफ में आंशिक बढ़ोतरी हुई है. लेकिन वाहनों की चेकिंग से अपराध कंट्रोल में सकारात्मक असर आया है.

बताया गया कि मीटिंग में मुख्यमंत्री ने सड़क मार्गों पर हो रहे अपराध तथा पेट्रोल पंप पर होने वाली लूट की घटनाओं में संलिप्त गिरोहों की पहचान करने का निर्देश दिया है. शराबबंदी के उल्लंघन सेे जुड़े मामलों में स्पीडी ट्रायल चलाने का भी निर्देश दिया. लंबित अनुसंधान के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन थानेदारों की रुचि अनुसंधान को आगे बढ़ाने में नहीं है उन्हें चिन्हित किया जाए. जिन मामलों को स्पीडी ट्रायल के लिए भेजा जाना है उसके बारे में डीएम व एसपी हर महीने जिला जज के साथ बैठक करें.

दशहरा व मुहर्रम के संबंध में मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि इसके लिए विशेष चौकसी जरूरी है. दोनों त्योहार आसपास हैैं. जुलूस का मार्ग और उसमें शामिल होने वालों की संख्या का हर हाल में अनुपालन होना चाहिए.

यह भी पढ़ें – बिहार सरकार को खोजे नहीं मिल रहे IAS सीके अनिल, फिर मिला अल्टीमेटम
पटना की 100 से ज्यादा महिलायें बनी शिकार, फेसबुक-वाट्सएप की फोटो से हुई ब्लैकमेलिंग

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमेंफ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*