दरभंगा में शराबबंदी की फिर खुली पोल, पुआल की ढेर से शराब बरामद, दो अरेस्ट

darbhanga
पुआल के ढेर से शराब जब्त

दरभंगाः बिहार में शराबबंदी के लिए नितीश कुमार ने बहुत तरीके अपनाए, लोगों को जागरूक किया कि शराब बंद करो, इसके बावजूद भी राज्य में शराब की तस्करी हो रही है. बिहार में शराब पर बैन होने के बावजूद चोरी-छिपे शराब धड़ल्ले से मिल रहे हैं. थाना क्षेत्र के कछुआ गांव के सरेहा चौर से पुलिस ने पुआल के टाल से बुधवार को 20 कार्टन शराब बरामद कर दो कारोबारियों को गिरफ्तार कर लिया. प्रभारी एसएसपी दिलनवाज अहमद के निर्देश पर जाले व सिंहवाड़ा की पुलिस ने छापेमारी की. इस दौरान पुआल की ढेर से बरामद शराब की 20 कार्टन से 750 एमएल, 375 एमएल व 180 एमएल की 534 बोतलें बरामद की गई.

प्रभारी एसएसपी दिलनपंचायत के वाज अहमद ने बताया कि जाले थानाध्यक्ष उमेश कुमार के नेतृत्व में पुलिस ने विषहर चौक से नशे की हालत में एक ऑटो चालक व बेनीपट्टी थाना क्षेत्र के लड्डूगम गांव निवासी विनय सिंह उर्फ विनय पांडे को गिरफ्तार किया गया. पूछताछ के बाद पुलिस ने उसके निशानदेही पर सिंहवाड़ा थाना क्षेत्र के कटका पकरिहार गांव में छापेमारी की. वहां पुलिस ने हरदेव शर्मा के पुत्र सुनील शर्मा को गिरफ्तार कर लिया.

उसके निशानदेही पर पुलिस ने कछुआ गांव के सरेहा चौर में छापेमारी की. वहां पुआल की ढेर से बीस कार्टन शराब बरामद किया गया. प्रभारी एसएसपी श्री अहमद ने बताया कि गिरफ्त में आया सुनील शर्मा पहले भी जेल जा चुका है. उसके खिलाफ सिंहवाड़ा थाना में कांड सं. 168/17 व कमतौल थाना में कांड सं. 163/17 दर्ज है. वह कमतौल थाना का फरार आरोपित है.

शराब बरामद मामले में थानाध्यक्ष उमेश कुमार ने कछुआ गांव निवासी कोपेंद्र मिश्र के पुत्र मोनू मिश्र, श्याम मिश्र के पुत्र राहुल मिश्र, जुबैर के पुत्र जहांगीर, शाकिर के पुत्र सद्दाम व अहमद रजा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है. बताया जाता है कि यही लोग शराब का असली कारोबारी है. फिलहाल सभी फरार है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*