छठ बाद बाढ़ क्षतिपूर्ति के लिए जिलों को मिलेंगे 894 करोड़, डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने कहा है

sushil-modi
डिप्टी सीएम सुशील मोदी (फाइल फोटो)

पटना : सूबे के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि बाढ़ग्रस्त जिलों के लिए राज्य सरकार ने 894 करोड़ रूपये की राशि आवंटित की है जिसे छठ के बांटने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. उन्होंने आज बुधवार को कहा कि बिहार के 19 जिलों के किसानों को राहत देने के लिए कृषि इनपुट सब्सिडी के तौर पर मंत्रिपरिषद ने 894 करोड़ रुपये स्वीकृत किया है. राज्य व केन्द्र सरकार ने इस साल बिहार में आई भीषण बाढ़ का न केवल डट कर मुकाबला किया बल्कि बाढ़ प्रभावित 38 लाख परिवारों को करीब 2300 करोड़ रुपये आरटीजीएस के जरिए प्रति परिवार 6-6 हजार रुपये सीधे उनके खाते में जमा कराया.

मोदी ने कहा राज्य में बाढ़ से हुए नुकसान की जानकारी देते हुए कहा कि बाढ़ से 6 लाख 52 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में लगी फसलें प्रभावित हुई जिससे 894 करोड़ की क्षति का अनुमान है. सर्वाधिक क्षति पूर्वी चम्पारण (89 हजार हेक्टेयर), पश्चिमी चम्पारण (75 हजार हेक्टेयर), दरभंगा (59 हजार हेक्टेयर) तथा पूर्णिया (45 हजार हेक्टेयर) रही. गैर सिंचित क्षेत्रों के लिए 6,800 रुपये प्रति हेक्टेयर, सिंचित क्षेत्रों के लिए 13,500 व गन्ने के लिए 18 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर क्षतिपूर्ति का प्रावधान है.

उन्होंने कहा कि पूर्वी चम्पारण के लिए 127 करोड़, पश्चिमी चम्पारण को 114 करोड़, कटिहार 84 करोड़, सीतामढ़ी 70 करोड़ 65 लाख, पूर्णिया 61 करोड़ व मुजफ्फरपुर के लिए 58 करोड़ सहित सभी प्रभावित 19 जिलों के लिए 894 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं. बाढ़ के दौरान 32 लाख परिवारों को फ़ूड पैकेट दिए गए थे जिसमें 6 किग्रा. चावल, 1 किग्रा. दाल, 2 किग्रा. आलू या 500 ग्रा. सोयाबीन, 500 ग्रा. नमक, हल्दी पैकेट व हैलोजन टैबलेट थे.

डिप्टी सीएम ने कहा कि राज्य के 19 जिलों की 1 करोड़ 71 लाख आबादी बाढ़ से प्रभावित हुई और 514 लोगों की मृत्यु हुई. केन्द्र व राज्य सरकार ने पूरी तत्परता से इस आपदा का सामना किया और राहत व बचाव में कोई कोताही नहीं होने दी.

सुशील मोदी ने आज इससे पहले छठ की शुभकामनाएं देते हुए राजधानी पटना में कई जगहों पर छठव्रतियों को सूप के साथ व्रत की सामग्री का वितरण किया.

दरियापुर में छठ व्रतियों को सामग्री का वितरण करते हुए
हनुमान नगर में छठ व्रतियों को सामग्री का वितरण करते हुए

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*