अनट्रेंड टीचर्स के लिए सरकार 30 अक्टूबर से कर रही है यह व्यवस्था

लाइव सिटीज डेस्क : राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान (एनआइओएस) से प्रशिक्षण लेने वाले अप्रशिक्षित शिक्षकों के लिए राज्य में तकरीबन ढ़ाई हजार अध्ययन केंद्र बनाए जाएंगे. शिक्षा सचिव ने सोमवार को एक बैठक के बाद जिलों के शिक्षा पदाधिकारियों को इस संबंध में आवश्यक निर्देश दिए हैं.

शिक्षा सचिव आरएल चोंग्थू ने कहा है कि राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान के क्षेत्रीय निदेशक की ओर से यह जानकारी दी गई है कि निर्धारित तिथि तक राज्य के 2,85,234 अप्रशिक्षित शिक्षकों ने डीईएलएड कोर्स के लिए निबंधन कराया है. जिनके दूरस्थ प्रशिक्षण के लिए जिलावार आवश्यक संसाधन मुहैया कराए जाने हैं.

जिलों के शिक्षा पदाधिकारियों से कहा गया है कि वे अपने-अपने क्षेत्र के लिए अध्ययन केंद्र का चयन करें और हर हाल में इसकी जानकारी 25 अक्टूबर तक शिक्षा विभाग को मुहैया करा दें. पत्र के साथ ही पदाधिकारियों को उनके जिले से निबंधन कराने वाले शिक्षकों का ब्योरा भी भेजा गया है. जिसमें स्पष्ट किया गया है कि सौ प्रशिक्षु पर एक अध्ययन केंद्र बनाया जाएगा. इन केंद्रों पर 30 अक्टूबर से प्रशिक्षण प्रारंभ किया जाएगा.

सत्यता की जांच होगी : डीईएलएड प्रशिक्षण के लिए एनआइओएस में निबंधन कराने वाले अनट्रेंड शिक्षकों की सत्यता की जांच होगी. शिक्षा सचिव ने इस संबंध में जिलों के शिक्षा पदाधिकारियों को निर्देश दिए हैं. कहा गया है कि बड़ी संख्या में शिक्षकों ने डीईएलएड कोर्स के लिए नामांकन कराया है.

इनके निबंधन की सत्यता जांच अधिकारी एनआइओएस पोर्टल पर उपलब्ध डाटा लेकर करें. इस काम के लिए जिलों को 30 अक्टूबर तक की मोहलत दी गई है. सत्यता जांच के बाद अधिकारी जिलावार सूची बनाकर इसे राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान को मेल करेंगे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*