भड़क उठे कमिश्नर आनंद किशोर, रोक दी बुडको के GM और प्लानिंग डायरेक्टर की सैलरी

पटना : चार दिनों के छठ महापर्व के अनुष्ठान की शुरूआत नहाए-खाए के साथ मंगलवार से शुरू हो जाएगी. लेकिन पटना के गंगा घाटों पर चल रही तैयारियां अब तक पूरी नहीं हो सकी हैं. बात चाहे घाटों पर महिलाओं के लिए बनाए जाने वाला चेंजिंग रूम की हो या फिर वॉच टावर की. अभी तक इसे बनाने का काम पूरा नहीं हुआ है.

यहां तक की सभी घाटों पर बनाए जाने वाला कंट्रोल रूम का काम भी अधूरा है. कलेक्ट्रियट सहित कई घाटों पर गंगा नदी में की जा रही बैरिकेडिंग का काम भी काफी स्लो है. अधूरा काम को देख पटना के डिवीजनल कमिश्नर आनंद किशोर भड़क गए. उन्होंने सीधे तौर पर बुडको के जीएम और इसके प्लानिंग डायरेक्टर से शो काउज कर दिया है.

कमिश्नर इतने गुस्से में आ गए कि बुडकोे के इन दोनों अधिकारियों की सैलरी पर रोक लगाने का आदेश दे दिया है. साथ ही अधूरे काम को आज रात तक हर हाल में पूरा करने का डेड लाइन दिया है. काम पूरा नहीं होने पर बुडको के दोनों अधिकारियों और काम कर रही एजेंसी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने व डिपार्टमेंटल कार्रवाई करने की चेतावनी भी कमिश्नर आनंद किशोर ने दी है.

दरअसल, सोमवार को छठ पूजा की तैयारियों का जायजा लेने डिवीजनल कमिश्नर आनंद किेशोर, जोनल आईजी नैयर हसनैन खान, सेंट्रल रेंज के डीआईजी राजेश कुमार, डीएम संजय अग्रवाल और एसएसपी मनु महाराज गए थे. इसी बीच गंगा घाटों पर चल रही तैयारियों में कई खामियां सामने आईं. लिंक रोड से लेकर घाट तक की लाइट की प्रोपर अरेंजमेंट्स, सफाई सहित कई प्वाइंट पर संबंधित डिपार्टमेंट के अधिकारियों को काम पूरा करने का निर्देश दिया गया.

बेहतर तालमेल की है जरूरत

गंगा घाटों का जायजा लेने के बाद डिवीजनल कमिश्नर ने एक हाई लेवल की मीटिंग की. मीटिंग में एडमिनिस्ट्रेशन व पुलिस के वो सभी अधिकारी मौजूद थे, जिन्हें छठ महापर्व के दौरान ड्यूटी पर लगाया गया है. कमिश्नर ने साफ किया कि बेहतर तालमेल की जरूरत है. तालमेल बढ़िया रहने पर छठव्रतियों और पब्लिक को किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं होगी. शाम के अर्घ्य के बाद हर घाट की साफ-सफाई करानी होगी. फिसलन न हो, इसका ख्याल रखना होगा. ताकि सुबह के अर्घ्य के दौरान किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो.

गंगा में घूमेंगी वाटर एम्बुलेंस

डीएम संजय अग्रवाल ने स्पष्ट कर दिया है कि शाम और सुबह के अर्घ्य के दौरान गंगा नदी में वाटर एम्बुलेंस मौजूद रहेगी. 4 वाटर एम्बुलेंस का अरेंजमेंट कर दिए गए हैैं. हर घाट पर मेडिकल टीमें होंगी. सिक्योरिटी के लिए भी प्रोपर अरेंजमेंट्स किए गए हैं. निगरानी के लिए गंगा घाटों पर 20 सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*