अस्‍पतालों में मलेरिया की दवा भी ठीक से नहीं मिल रही, मंत्री जी हिमाचल में हैं

पटना : मलेरिया-डेंगू-चिकनगुनिया रोग की मार बिहार में बढ़ती जा रही है . वीआईपी गवाही राजद के वरिष्‍ठ विधायक मुंद्रिका सिंह यादव की पिछले हफ्ते पटना में हुई मौत है . डेंगू के बाद हुए ब्रेन हैमरेज का झटका इतना बड़ा था कि पारस अस्‍पताल लाख कोशिश के बाद भी यादव को नहीं बचा सका . वे एयर एंबुलेंस से दिल्‍ली ले जाने की स्थिति में भी नहीं थे .

दिवंगत मुंद्रिका सिंह यादव
दिवंगत मुंद्रिका सिंह यादव

रोगों की मार के बीच बिहार के सरकारी अस्‍पतालों की स्थिति किसी से छुपी नहीं है . कुछ भी कह लें केन्‍द्रीय स्‍वास्‍थ्‍य राज्‍य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे,बिहार का भरोसा सरकारी अस्‍पतालों पर जमता नहीं है . हां,जो मजबूर हैं,उनके पास रास्‍ता कोई और नहीं है . उन्‍हें सरकारी अस्‍पतालों में ही जाना होगा . एम्‍स,पटना में क्‍या हुआ,अभी सबों ने देखा . नंबर आने के पहले ओपीडी में दिखाने को रजिस्‍ट्रेशन की खिड़की बंद हो गई और बुखार के इलाज के लिए लखीसराय से आई मासूम बेटी अपने पिता के कंधे पर मौत की नींद सो गई .

सांसद बोले-बाजार से दवा खरीदें,पेमेंट हम देंगे

सरकार कहती है कि वह अपने अस्‍पतालों में मरीजों को जरुरी दवाएं मुफ्त में देती है . पर,यह कितना सच है,भाजपा के ही औरंगाबाद के सांसद सुशील कुमार सिंह ने फेसबुक पोस्‍ट में बयां किया है . सांसद सुशील कुमार सिंह शनिवार को अपने क्षेत्र देव के अजब बिगहा ग्राम के मलेरिया पीडि़त मरीजों से मिलने औरंगाबाद के सदर अस्‍पताल को गये थे .

नई दिल्ली के अपने सेवाश्रम में मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव
नई दिल्ली के अपने सेवाश्रम में मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव

मरीजों से भेंट-मुलाकात में सांसद सुशील कुमार सिंह को दवा मिलने में हो रही परेशानी समझ में आ गई . तभी उन्‍हें अस्‍पताल के उपाधीक्षक को कहना पड़ा कि दवा की कमी रहने की स्थिति में आप किसी निजी दवा दुकान से मेडिसिन मंगवा लें . फिर इसके बिल को भुगतान के लिए उनके पास भेजें,वे स्‍वयं पेमेंट करेंगे . लेकिन यह सच है कि सुशील कुमार सिंह ने जैसा ऑफर दिया है,वैसा सभी सांसद नहीं करते . हां,विरले उदाहरण मधेपुरा के सांसद पप्‍पू यादव हैं,जिन्‍होंने नई दिल्‍ली के लुटियन जोन के अपने बंगले को मरीजों के लिए सेवाश्रम बना रखा है, जहां नियमित तौर पर मुफ्त खाना-इलाज के साथ वे कोई 500 मरीजों के साथ जिंदगी को जीते हैं .

मंत्री जी हिमाचल प्रदेश में हैं

बिहार के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मंगल पाण्‍डेय को बिहार की खबर लेने के लिए नौ नवंबर 2017 तक वक्‍त बहुत कम है . वे हिमाचल प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के चुनाव प्रभारी हैं . भाजपा हिमाचल में सत्‍ता पर काबिज होने के लिए कांग्रेस के खिलाफ बड़ी लड़ाई लड़ रही है . सो,जाहिर तौर पर मंत्री मंगल पाण्‍डेय को अभी बिहार से अधिक ध्‍यान हिमाचल प्रदेश पर ही फोकस करना होगा . तब तक बिहार वेट करे और रोग से खुद लड़े .

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*