‘बिहार में रोजगार की कमी नहीं, रेशम-हैंडलूम-पॉवरलूम में तो अपार संभावनाएं’

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार में रोजगार की कमी नहीं है. खासकर रेशम उद्योग में तो अपार संभावनाएं हैं. इसी तरह हैंडलूम व पॉवरलूम में भी रोजगार के अच्छे अवसर हैं. ये बातें बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने पटना के संवाद सभाकक्ष में आयोजित कार्यक्रम में कहीं. कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री अशोक गजपति राजू भी उपस्थित थे.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उद्यमी पंचायत की बैठक को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने हस्तकरघा, विद्युत करघा, बुनकर, रंगरेज, सिल्क व्यवसाय से जुड़े प्रतिनिधियों की प्रॉब्लम को सुना और उनके समाधान के लिए उस पर गंभीरतापूर्वक चर्चा की. आज की इस बैठक में उद्यमियों द्वारा अच्छे सुझाव दिये गये और कुछ लाभकारी बातें भी सामने आयीं.

नीतीश कुमार ने कहा कि हैंडलूम, पॉवरलूम, रेशम के क्षेत्र में रोजगार की काफी संभावनाएं हैं. उन्होंने सेवा यात्रा के दौरान रेशम उत्पादित इलाकों का भी दौरा किया था. उस समय नई नीति बनाने का सुझाव दिया था. नीति बनी, लेकिन क्रियान्वयन में थोड़ा समय लगा. इस क्षेत्र में आगे बढ़ने की पूरी संभावनाएं हैं. उन्होंने कहा कि जीविका को ग्रामीण विकास विभाग को और गति देनी होगी.

सीएम ने कहा कि जीविका के माध्यम से रेशम के रोजगार की काफी उम्मीदें हैं. तसर उद्योग के लिए महिलाओं को 661 उपकरण दिए जा चुके हैं, जिससे और भी प्रभावकारी परिणाम सामने आएगा. हैंडलूम को-ऑपरेटिव सोसाइटी की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि इसकी संख्या बढ़ाने की जरूरत है. आंकड़ों को अपडेट करने की जरूरत है, जिससे आपको फायदा होगा, आपका संगठन मजबूत होगा.

उन्होंने यह भी कहा कि उद्योग एवं सहकारिता विभाग के विकास आयुक्त की अध्यक्षता में एक बैठक होगी, जिसमें शीघ्र ही समस्याओं का निराकरण किया जाएगा. सतरंगी चादर के बारे में उन्होंने कहा कि एक एजेंसी का चयन कर क्वालिटी का ध्यान रखते हुए सप्लाई कीजिए. रंगरेजों के बारे में उन्होंने कहा कि उनकी अपनी पहचान है. बुनकर लोग रंगरेजों से आपसी संबंध को बेहतर बनाकर रोजगार की संभावना बढ़ा सकते हैं. रंगरेजों की एक समय बहुत दयनीय स्थिति हो गई थी, जिन्हें अपने जीविकोपार्जन के लिए तरह-तरह की परेशानियों से गुजरना पड़ता था.

हैंडलूम और पॉवरलूम क्षेत्र को और मजबूत करने पर सीएम नीतीश कुमार ने बल दिया. उन्होंने कहा कि भागलपुर में चंपानगर जहां बिजली भुगतान की समस्या को हल करने के लिए नए कनेक्शन दिये जायेंगे, इसके लिए 15 नवंबर से कैंप लगाया जाएगा. साथ ही पुराने बकाए के लिए वन टाइम सेटलमेंट की कार्रवाई की जाएगी. जो भी सहायता होगी सरकार करेगी. ज्यादा से ज्यादा लोगों को रोजगार मिले, सरकार की यह कोशिश है.

उद्यमी पंचायत में हैंडलूम, पॉवरलूम, सिल्क, रंगरेज व्यवसाय से जुड़े हुए क्षेत्र के प्रतिनिधियों ने भाग लिया. इसमें बिहार राज्य हस्तकरघा बुनकर सहयोग संघ के अध्यक्ष नकीब अहमद, भागलपुर तसर सिल्क समिति चंपानगर के अध्यक्ष मोहम्मद अंसारी, भागलपुर के सोलेह अंसारी, रोहतास के रामवृक्ष पाल, नवादा के शैलेंद्र कुमार, नालंदा के कपिलदेव प्रसाद, गया के प्रेम नारायण प्रसाद, भागलपुर के मो शमशाद आदि मौजूद रहे. वहीं उद्योग मंत्री जय कुमार सिंह, ऊर्जा मंत्री बिजेन्द्र प्रसाद यादव, कृषि मंत्री प्रेम कुमार, राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री राम नारायण मण्डल, मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह समेत अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*