मिट्टी घोटाले पर सुमो का बड़ा खुलासा – बिना टेंडर के ही धड़ल्ले से चलता रहा काम

लाइव सिटीज डेस्कः भाजपा के वरिष्ठ नेता और बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने एक बार फिर से लालू परिवार पर निशाना साधा है. पटना में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सुशील मोदी ने मिट्टी घाटाले पर फिर कई खुसाले किए हैं. उन्होंने कहा कि टेंडर तक नहीं निकाला गया. साथ ही नियमों की भी भारी अनदेखी की गई.

उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी ने पटना जू में मिट्टी घोटाले पर नया खुलासा करते हुए कहा कि नियमों की अनदेखी कर जू में मिट्टी की भराई की गई. इसके लिए टेंडर भी नहीं निकाला गया. सुशील मोदी ने कहा कि जब लालू यादव के निर्माणाधीन मॉल में मिट्टी की खुदाई शुरू हुई तब ही संजय गांधी जैविक उद्यान में मिट्टी के पथों के निर्माण की स्‍वीकृति प्रदान की गई.

उन्होंने कहा कि उस समय प्रस्‍ताव में यह बताया गया कि दर्शकों की संख्‍या की वृद्धि और भविष्‍य में दर्शकों की संख्‍या की वृद्धि को देखते हुए यह किया जा रहा है. बाद में मामला उजागर होने पर जब जांच हुई तो उसमें यह भी लिखा गया कि गर्मी के समय में अग्नि सुरक्षा कार्यों के लिए, रात्रि गश्‍ती व अन्‍य चीजों को ध्‍यान में रखकर यह किया गया है.

सुशील मोदी ने कहा कि पटना जू में मिट्टी के काम के लिए कोई टेंडर नहीं किया गया. जबकि यह नियम है कि 50 हजार से 5 लाख की खरीद के लिए तीन सदस्‍यों की कमेटी की अनुशंसा होनी चाहिए. इसके साथ 5 लाख से ज्‍यादा के लिए कोटेशन और टेंडर कराना जरूरी होता है.

बता दें कि बिहार सरकार ने मिट्टी घोटाले की जांच निगरानी विभाग से कराने की घोषणा की है. उप मुख्‍यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने यह घोषणा की. मोदी के पास वन और पर्यावरण मंत्रालय का प्रभार भी है. मोदी के अनुसार निगरानी विभाग की जांच एक निश्चित समय सीमा के अंदर कराकर उसकी रिपोर्ट पटना हाईकोर्ट में सौंपी जाएगी.

इस मामले में हाईकोर्ट ने छह हफ़्ते में जांच की रिपोर्ट तलब की थी. गौरतलब है कि इस मामले को विपक्ष के नेता रहते हुए सुशील मोदी ने ही उजागर किया था. दरअसल ये पूरा घोटाला लालू यादव के एक मॉल की मिट्टी को लेकर है, जिसका  उपयोग पटना ज़ू में एक सड़क  के निर्माण में किया गया. इसके बदले कुछ लोगों को लाखों का भुगतान हुआ.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*