Breaking News

ट्रंप के इस बयान से भारत में लाखों लोग हो सकते हैं बेरोजगार

लाइव सिटीज डेस्क : भारत में होने वाले आउटसोर्सिंग के कार्य पर भारी असर पड़ सकता है. MNC कंपनी बंद हो सकती है. जी हां ऐसा इसलिए, क्योंकि अमेरिका के नव निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप  ने अपनी पहली प्रेस कांफ्रेंस में कुछ ऐसा ही कहा है. दरअसल, आउटसोर्सिंग पर ट्रंप ने अपना नजरिया बिलकुल साफ कर दिया है. उनके अनुसार अमेरिकी कंपनियों द्वारा नौकरियों की आउटसोर्सिंग अब नहीं की जाएगी. इस खबर के बाद से भारतीय निवेशकों को गहरा झटका लग सकता है.

आपको बता दें कि इस महीने की शुरुआत में अमेरिकी कांग्रेस ने एक बिल पेश किया है, जिसमें एच1बी वीजा पर पूर्व की कोशिश को पुनः शुरू की गई थी. बिल के अनुसार एच1बी वीजा के तहत अमेरिका में काम करने वालों की न्यूनतम सैलरी 60,000 डॉलर से बढ़ाकर  1,00,000 डॉलर की जाए, ताकि वे अमेरिका में काम कर सकें. इससे भारत की आईटी इंडस्ट्री और गैर आईटी कर्मचारी प्रभावित होंगे.

नैसकॉम के प्रेसिडेंट ने ट्रंप के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ट्रंप की सारी नीतियां अमेरिका में बिजनेस कर रही भारतीय आईटी कंपनियों के लिए बुरी नहीं हैं. उन्होंने कहा कि भारत को यह बात करने की जरूरत है कि आईटी कंपनियों से कितना व्यापार अमेरिकी अर्थव्यवस्था को मिलता है.

फार्मा कंपनियों को लेकर भी ट्रंप ने बड़ी बात कही है. उन्होंने कहा कि अमेरिका दुनिया में दवाओं का सबसे बड़ा खरीददार है और अब तक हम इसके लिए सही से निविदाएं नहीं देते हैं. उन्होंने कहा कि ड्रग कंपनियां ‘हत्या करके पैसे कमा रही हैं’. उन्होंने वादा किया कि इसमें बदलाव आएगा. उन्होंने जोर दिया कि वह ड्रग इंडस्ट्री को वापस अमेरिका में लेकर आएंगे. इसके अलावा ट्रंप ने अपने बयान में कहा है कि वो बॉर्डर टैक्स लगाएंगे, इससे अमेरिकी कंपनियां किसी अन्य देश में अपना बिजनेस ले जाने को लेकर हतोत्साहित हो जाएंगे. इसका सीधा असर आउटसोर्सिंग पर पड़ेगा और भारतीय अर्थव्यवस्था पर भी इसका असर पड़ना तय है.

यह भी पढ़ें –गर्व की बात : अमेरिकी प्रेसिडेंट ट्रम्प के उपसहायक बने राज शाह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *