हाल-ए-सब्जी बाज़ार: पटना में आसमान छू रहे हैं हरी सब्जियों के दाम

green-vegetable

पटना : मानसून के आने के साथ ही सब्जियों के दाम भी आसमान छूने लगे हैं. सूरतेहाल यह है कि जो लोग कुछ ही दिनों पहले झोला भरकर सब्जी खरीद रहे थे वही अब आधा किलो और पावभर ही खरीदने की हिम्मत जुटा पा रहे हैं. इसकी वजह है बाज़ार में ज्यादातर सब्जी 40 रूपये और कुछ सब्जियां तो 80 रूपये किलो तक मिल रही है. आपको याद होगा कुछ दिन पहले अचानक से टमाटर का भाव बढ़ गया था. वही टमाटर जिसे किसान कीमत नहीं मिल पाने के कारण सड़कों पर फेंक रहे थे. लेकिन अब कीमत इतनी है कि लोग सुनकर ही आगे बढ़ जा रहे हैं. इसका कारण टमाटर की आपूर्ति कम होना बताया जा रहा है.

हालांकि अभी टमाटर के दाम कुछ कम हुए हैं लेकिन इतने भी कम नहीं कि आप जी—भर कर खरीदने की हिम्मत जुटा पाएं. 80 रूपये किलो मिलने वाला टमाटर अभी कहीं कहीं 60 रूपये किलो मिल जा रहा है. लेकिन फिर भी यह जन साधारण के बजट के बाहर ही है. सब्जी के बढते दामों का कारण खुदरा व मोहल्ले के दुकानदार जीएसटी बता रहे हैं. हालांकि यह उनका बस मजाक है. हालांकि थोक विक्रेता सब्जी की आमद में आई भारी कमी बता रहे हैं. सब्जी के दाम हर मंडी में अलग अलग देखने को मिल रहे हैं. हालांकि दामों में अंतर भी बस 5—10 रूपये का ही है.


राजीवनगर सब्जी मार्किट के खुदरा विक्रेता लक्ष्मी महतो का कहना कि बारिश की वजह से सब्जियों के पौधे पीले पड़ गए हैं. खेतों में पानी भर गया है. इस वजह से किसानों को फसल उजाड़ना पड़ रहा है. जहां पौधे हैं भी तो उसकी पैदावार पहले से कम हो गयी है. हमलोगों को भी आढ़त में थोक मूल्य पर सब्जी बढ़े दामों पर मिल रहा है.

वहीं मीठापुर की सब्जी मंडी के थोक सब्जी विक्रेता संजय कुमार का कहना है कि आमद में कमी आने के कारण खुदरा बाज़ार को ऊंचे दामों में सब्जी की आपूर्ति की जा रही है. आमद में 50 प्रतिशत तक की भारी कमी आई है. पहले जहां रोज बाहर से 25 से 30 गाड़ियां सब्जी की आती थी वहीं आजकल 10-15 गाड़ियां ही आ रही हैं.

भावना पटना में रहकर पढ़ाई कर रही हैं. वह सब्जी खरीदने आई हैं. बताती हैं कि लगातार बढ़ रहे सब्जी की कीमत के कारण अब सोयाबड़ी और आलू से काम चलाना पड़ रहा है. यहां दूर दराज से आकर पढ़ाई करने वालों के पॉकेट पर सब्जी की महंगाई असर डाल रही है.

green-vegetable

वहीं एक अन्य स्टूडेंट पायल सिन्हा का कहना है कि मंडी की तुलना में मोहल्लों में सब्जी ज्यादा दामों में बिक रही हैं. जहां मंडी में परवल 17 से 20 रूपये किलो है वहीं मोहल्ले के दुकानों में 25-30 रूपये प्रति किलो बिक रहा है.

संतोष की बात बस इतनी है कि आलू और प्याज की कीमत अभी बजट में है. आलू जहां 50 से 60 रूपये प्रति पांच किलो मिल रहा है वहीं प्याज 40 से 50 रूपये प्रति पांच किलो की दर से मिल रहा है.

सब्जी प्रति किलो में
परवल- 20-25 रूपये
नेनुआ- 40 से 45 रूपये
बैगन- 25 से 30 रूपये
टमाटर- 60 से 80 रूपये
करेला- 30 से 35 रूपये
बीन्स- 60 से 75 रूपये
प्याज- 10 से 12 रूपये
धनिया पत्ता— 30 रूपये प्रति 100 ग्राम

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*