TET 2017 के विरोध में सड़क पर उतरे छात्र

पटना (नियाज आलम) : शिक्षक पात्रता परीक्षा (TET) 2017 में बीएड प्रथम वर्ष और कॉमर्स स्नातक छात्रों को शामिल करने की मांग को लेकर शुक्रवार को ऑल इंडिया स्टूडेंन्ट्स एसोसिएशन (आइसा) ने प्रदर्शन किया. इसे लेकर अभ्यर्थियों ने गांधी मैदान के पास कारगिल चौक से लेकर बिस्कोमान भवन तक मार्च कर मुख्यमंत्री के खिलाफ नारेबाजी की.

कारगिल चौक पर नारेबाजी और मुख्यमंत्री का पुतला दहन करने के बाद मौर्य होटल के पास छात्रों ने सड़कों पर लेट कर प्रदर्शन किया. इस अवसर पर पटना समेत राज्य के अन्य कई जिलों के आइसा से संबंधित छात्रों ने हिस्सा लिया. प्रदर्शन के दौरान छात्र नेताओं ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर उनकी मांगें नहीं मानी गई तो प्रदर्शन और तेज किया जायेगा.

छात्र नेता मुख्तार ने कहा कि उनकी मांग है कि बीएड में अध्यनरत तमाम छात्रों को TET परीक्षा में शामिल होने का अवसर दिया जाए. छात्रों को शिक्षा के अधिकार के तहत प्रत्येक वर्ष TET परीक्षा आयोजित करना सुनिश्चित किया जाए और TET द्वारा बहाल हो रही सीटों की संख्या को सार्वजनिक किया जाए.

मुख्तार ने बताया कि TET 2017 के आवेदन में जो पात्रता निर्धारित की गई है, उसके अनुसार जिन छात्रों ने बीएड की डिग्री ली है अथवा दो वर्ष के कोर्स में अन्तिम वर्ष में है, उन्हें ही TET 2017 में बैठने की अनुमति मिलेगी, जबकि 2016-18 सत्र बीएड के छात्रों को परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं होगी. इसके अलावा कॉमर्स स्नातक के जिन छात्रों ने बीएड की डिग्री प्राप्त की है, उन्हें भी परीक्षा में शामिल होने का अवसर नहीं दिया गया है. छात्र नेता ने कहा कि उनका मुख्यमंत्री से निवेदन है कि उनकी मांगों पर अविलंब कार्रवाई करें. प्रदर्शन के दौरान छात्रों के बढ़ते आक्रोश को देखते हुए पुलिस ने उनके 5 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल को जिला नियंत्रण कक्ष के वाहन में शिक्षा विभाग के निदेशक से मिलने के लिए भेजा.

इसके बाद सभी छात्र प्रदर्शन के लिए सड़कों से हटकर गांधी मैदान चले गए. प्रदर्शन के दौरान काफी देर तक यातायात भी बाधित रही. बता दें कि बीकॉम छात्रों को केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (सी-टेट) में शामिल होने से नहीं रोका जाता है. हाल ही में झारखंड में आयोजित हुई TET में भी ऐसी कोई रोक नहीं थी. वर्ष 2011 के बिहार TET में भी यही स्थिति थी.

इससे पहले शिक्षा मंत्री डॉ अशोक कुमार चौधरी ने कहा है कि बीकॉम छात्रों के टेट में शामिल किए जाने पर रोक के मामले में तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं दे सकते हैं. विभाग के स्तर पर जानकारी लेने के बाद ही कुछ कह सकेंगे. फ़िलहाल, TET परीक्षा का आयोजन करा रही बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर ने कहा कि सरकार के निर्देश पर स्नातक कॉमर्स के विद्यार्थियों पर रोक लगी है. उन्होंने कहा कि सरकार का कहना है कि कक्षा छठी से आठवीं तक कॉमर्स विषय से संबंधित कोई पढ़ाई नहीं होती है. इसलिए कॉमर्स के विद्यार्थियों को इस परीक्षा में शामिल नहीं कराया जाए.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*