8 महीने से बिना प्राचार्य के चल रहा पटना आर्ट एंड क्राफ्ट्स कॉलेज

पटना : पटना यूनिवर्सिटी के आर्ट्स एंड क्राफ्ट्स कॉलेज में हाल के दिनों में काफी विवाद देखने को मिला है. इस वजह से कॉलेज की पढ़ाई और प्रबंधन भी काफी प्रभावित हुई है. छात्रों के अनुसार उनकी क्लास और कॉलेज की अन्य गतिविधियां को पर भी बुरा असर पड़ रहा है.

गौरतलब है कि पिछले साल अप्रैल महीने में कॉलेज में बहुत बड़ा छात्र आंदोलन हुआ था जो कि लगभग 80 दिनों तक चला था. आंदोलन में प्राचार्य को स्थायी रूप से हटाने की मांग की गयी थी. इसके लिए कॉलेज में विभिन्न छात्र संघों ने भी आंदोलन किया था. तब से आज तक कॉलेज की व्यवस्था चरमरा गयी है. छात्रों के इस आंदोलन को सपोर्ट करने जेएनयू स्टूडेंट यूनियन के पूर्व चेयरमैन कन्हैया कुमार भी पटना आये थे. इसके प्रकरण के बाद यूनिवर्सिटी ने तत्कालीन प्राचार्य डॉ. एसबी श्रीवास्तव को छुट्टी पर भेज दिया था. उनके स्थान पर डॉ. अरुण कुमार को प्रभारी प्राचार्य बनाया गया.

 

क्या कहते हैं प्राचार्य

आंदोलन के बाद अगस्त में डॉ. एसबी श्रीवास्तव वापस प्राचार्य के रूप ज्वाइन किया. लेकिन तब से ले कर आज तक वो कॉलेज नही आये हैं. इस बारे में  पूछने पर डॉ. श्रीवास्तव ने बताया कि कॉलेज सुरक्षा कारणों से नहीं जा रहा हूं, सुरक्षा के लिए एसएसपी और प्रोक्टर को कई बार पत्र लिख चुका हूँ. लेकिन अब भी जवाब का इंतजार है. हालांकि कॉलेज में कोई दिक्कत नही है.

क्यों खास है पटना आर्ट्स कॉलेज

पटना आर्ट्स कॉलेज पटना यूनिवर्सिटी का एक मात्र आर्ट्स कॉलेज है. यह भारत के नंबर एक आर्ट्स कॉलेज के रूप जाना जाना जाता है. नेशनल स्तर सबसे ज्यादा बार यूथ फेस्टिवल में पुरस्कार हासिल किया है. इसकी गिनती एशिया के टॉप 10 आर्ट्स कॉलेजों के रूप में होती है.

यह भी पढ़ें : Wifi पायलट प्रोग्राम से जुड़ेगा पटना कॉलेज, मिले कई और तोहफे 

 

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*