Breaking News

नोटबंदी पर CPI ने दिया एक दिवसीय धरना

शेखपुरा.(ललन कुमार): नोटबंदी से देशवासियों को हो रही परेशानियों को लेकर सीपीआई ने पीएम मोदी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. “हिसाब दो, जवाब दो” कार्यक्रम के तहत शहर के चांदनी चौक स्थित अग्रणी बैंक के समक्ष सीपीआई के समर्थकों ने एक दिवसीय धरना दिया. धरने की अध्यक्षता अंचल सचिव चन्द्रभूषण प्रसाद ने किया.

धरने में लोगों को संबोधित करते हुए सीपीआई के जिला सचिव प्रभात कुमार पांडेय ने कहा कि नोटबंदी के 50 दिनों के बाद भी लोगों हालात में कोई कमी नहीं आई. आज भी लोगों को अपने पैसे बैंकों से निकालने में उतनी ही परेशानी उठानी पड़ रही है, जितना की 8 नम्बर को. नोटबंदी लागू कर देश की आर्थिक व्यवस्था को मोदी ने चरमरा दी है. इस नोटबंदी के कारण बैंकों की लाइन में लगे 130 बेगुनाह लोगों की मौत हो गई. आखिर इन लोगों की मौत का जिम्मेदार कौन है?

a

उन्होंने सवाल करते हुए कहा कि मजदूरों का नोटबंदी के चलते रोजगार छीन गया. इसका जिम्मेदार कौन. नोटबंदी के चलते किसान के खेतों की फसल बर्बाद हुई. इसका जिम्मेवार कौन. कितनी बेटियों की शादियां टूट गयी. इसका जिम्मेवार कौन. पीएम मोदी जवाब दो बैंकों से कितना धन गया और कितना आया. इसका भी हिसाब दो. मोदी ने कहा था बहनों, भाइयों मुझे 50 दिन का समय दो, सारा स्थित बैंकों का सामान्य हो जाएगा. 50 दिन गुजरने के बाद भी बैंकों के हालात नहीं बदले हैं. हालात बदले तो अंबानी और अडानी जैसे लोगों के.

कुमार पांडेय ने कहा कि 200 हजार की नई करेंसी के साथ जो भी गिरफ्तार हुए, वे सभी भाजपा के लोग थे. पीएम मोदी के लोगों ने ही कई भ्रष्टाचारियों और कालाधन रखने वालों को करोड़ों में नई करेंसी वाली नोटों को उपलब्ध कराया. आज बाजार में बैंक द्वारा दिए गए 2000 के नोट को छोटे दुकानदार तो  क्या बड़े दुकानदार भी लेने से कतराते हैं. गरीबों को 2000 के नोट ने तो जहमत में डाल दिया है. कालाधन के नाम पर पीएम नरेंद्र मोदी ने देश में नंगा नाच किया है. आज तक मोदी बताएं कि कितने कालाधन वालों को जेल में डाला है. उन्होंने ही 30% बैंक में कटवाकर कालाधन रखने वालों का धन सफेद करवाया है. परेशानी दिया तो केवल गरीबों, मजदूरों और छोटे पूंजीपतियों को.

उन्होंने कहा कि 8 नवंबर से पीएम मोदी ने पूरे देश में 500-1000 के पुराने नोटों को देश में प्रचलन क्या बंद किया देश को भुखमरी, बेरोजगारी के कगार पर ला खड़ा कर दिया है. उन्होंने कहा कि वे नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के गलत फैसले और जारी ह्विप के खिलाफ धरने पर बैठे हैं. इस मौके पर सीपीआई के खेत मजदूर यूनियन के जिलाध्यक्ष सीताराम मांझी, जिला मंत्री अशोक कुमार पांडेय, बरबीघा के अंचल मंत्री धर्मराज कुमार, केदार राम, शिवबालक सिंह, कृष्णनंदन यादव, राजेंद्र प्रसाद सिंह, जयप्रकाश शर्मा समेत दर्जनों लोग उपस्थित थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *