विभागीय सुस्ती के कारण शिक्षकों का वेतन बंद

शेखपुरा.(ललन कुमार):  वर्षों से हाई स्कूल के शिक्षकों के प्रमाणपत्रों के सत्यापन डीईओ मो. तकिउद्दीन द्वारा विभागीय स्तर पर नहीं कराए जाने के कारण शिक्षकों का पिछले 5 साल से वेतन बंद है, जिसके चलते वे भुखमरी के कगार पर पहुंच गए हैं.

शहर के इस्लामियां हाई स्कूल के सहायक शिक्षक एस एम असगर बिस्मिल और कम्प्यूटर शिक्षक मो. उनुन खान ने डीईओ तकिउद्दीन पर आरोप लगाया कि लोभ में उनके प्रमाण पत्रों का सत्यापन विभागीय स्तर पर नहीं कराया जा रहा है और पेंडिंग रखा जा रहा है. जबकि स्कूल प्रशासन की तरफ से उनके प्रमाण पत्रों का सत्यापन भी करा लिया गया है.

a

उन्होंने बताया कि यहां तक कि उन्होंने खुद प्रमाण पत्रों का सत्यापन करा कर और प्रथम श्रेणी के न्यायिक दंडाधिकारी से एफिडेविड भी डीईओ को दिया गया. फिर भी डीईओ इसे मानने को तैयार नहीं. मंजूरी मिलने के बाद भी विभागीय स्तर पर लंबित रखा जा रहा है. कार्यालय से प्रमाणपत्रों के सत्यापन के लिए निदेशक को सूचना भेजे जाने की बात बताई जाती है. लेकिन सूचना पत्र के पत्रांक और दिनांक मांगे जाने पर कार्यालय स्तर से नहीं दी जा रही है.

दोनों शिक्षकों ने कहा कि इन सारे तथ्यों से साफ़ जाहिर है कि डीईओ कुछ लोभ से ही उनके प्रमाण पत्रों के सत्यापन का मामला लंबित रखे हुए हैं. वहीं इन शिक्षकों के सारे आरोपों को डीईओ तकिउद्दीन ने बेबुनियाद बताते हुए कहा कि विभागीय स्तर पर प्रमाण पत्रों के सत्यापन कराये जाने में कुछ तो समय लगेगा ही.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*