छठ में अपने परिचित के घर गई थी किन्नर, खाली देख चोरों ने किया हाथ साफ

पटना : छठ पूजा के खत्म होते ही राजधानी में चोरी की वारदातों के सामने आने का सिलसिला शुरू हो गया है. चोरी के वारदात का पहला मामला कोतवाली थाना इलाके से आया है. जहां गुरुवार की रात शातिर चोरों ने चोरी की एक बड़ी वारदात को अंजाम दिया है. ज्वेलरी और कैश समेत लाखों रुपये की चोरी कर ली गई है.

मामला कमला नेहरू नगर इलाके का है. जिस घर में चोरी की वारदात हुई है, वो एक किन्नर का है. किन्नर का नाम काटो है. छठ पूजा में शामिल होने के लिए काटो गुरुवार की शाम अपने एक परिचित के घर पटना सिटी गई थी. उनकी रात अपने परिचित के घर ही कटी. जाने से पहले काटो ने अपने घर को अच्छे से लॉक कर दिया था.

लेकिन खाली पड़े घर की भनक न जाने कैसे शातिर चोरों को लग गई. मेन गेट का लॉक तोड़ कर चोर घर में घुसे थे. फिर आराम से चोरी कर वहां से फरार भी हो गए. सुबह होने पर काटो के घर में चोरी होने का पड़ोसियों को पता चला था.

पड़ोसी ने दी जानकारी, 10 लाख से अधिक की चोरी

सुबह के अर्घ्य की तैयारियों में काटो और उसके परिचित लगे थे. तभी सुबह के 5 बजे के करीब काटो के मोबाइल पर एक पड़ोसी ने कॉल किया. फिर मेन गेट का लॉक टूटे होने और घर में चोरी होने की जानकारी दी गई. पता चलने के कुछ समय बाद ही काटो पटना सिटी से अपने घर पहुंची. घर का सारा सामान अस्त—व्यस्त था.

काटो की मानें तो 5 लाख रुपये कैश घर में रखे हुए थे. करीब 5 लाख रुपये की ज्वेलरी भी रखी हुई थी. चेक करने पर ये दोनों गायब मिले. कैश समेत करीब 10 से अधिक की संपत्ति की चोरी कर ली गई है.

हिरासत में एक शातिर

किन्नर के घर हुई चोरी की बात पूरे कमला नेहरू नगर में आग की तरह फैली. किसी को ये समझ में नहीं आ रहा था कि छठ पूजा को लेकर आसपास के लोग जगे हुए थे, फिर चोरों ने कब वारदात को अंजाम दे दिया. काटो के साथ कई किन्नर कोतवाली थाना पहुंचे. मामले की जानकारी दी. पुलिस टीम ने उसके घर पहुंचकर मामले की छानबीन की. काटो के बयान पर एफआईआर दर्ज कर लिया गया है.

कोतवाली थानेदार की मानें तो शक के आधार पर उसी इलाके का रहने वाले एक शातिर चोर को हिरासत में लिया गया है. उससे थाने में पूछताछ चल रही है. थानेदार की मानें तो हिरासत में लिया गया शातिर चोरी के मामलों में पहले भी जेल जा चुका है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*