भोजपुर जिला में पहली बार तकनीक आधारित समीक्षा प्रणाली की हुई शुरुआत, कई अधिकारी रहे मौजूद

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: जिले में पहली बार डीएम संजीव कुमार ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर  कई योजनाओं का फीडबैक लिया. भोजपुर जिला मुख्यालय से जिलाधिकारी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर प्रखंड से लेकर पंचायत स्तरीय अधिकारियों एवं कर्मियों को आवश्यक निर्देश दिए. शुक्रवार को प्रखंडों में आयोजित केसीसी कैंप को सफल एवं प्रभावी बनाने हेतु जिलाधिकारी ने टिप्स दिया. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में लक्ष्य निर्धारित किया गया की न्यूनतम 300 किसान प्रति पंचायत केसीसी से आच्छादन हो. वहीं फसल सहायता योजना में 95,000 किसानो का निबंधन हुआ.

बता दें कि जिलाधिकारी संजीव कुमार ने शुक्रवार को कृषि भवन स्थित एनआईसी से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा प्रखंड मुख्यालय में प्रखंड से लेकर पंचायत स्तरीय अधिकारियों एवं कर्मियों से कैंप आयोजन से संबंधित तैयारी कार्य का फीडबैक प्राप्त किया तथा आवश्यक निर्देश दिया. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में जिला मुख्यालय से सभी प्रखंड मुख्यालय को कनेक्ट किया गया. वहीं सभी स्थलों पर प्रखंड विकास पदाधिकारी, प्रखंड कृषि पदाधिकारी ,बैंकर, कृषि समन्वयक, किसान सलाहकार ,अंचलाधिकारी, राजस्व कर्मी आदि की उपस्थिति एवं उसके कार्य की जानकारी प्राप्त की गई.

डीएम का आदेश शत प्रतिशत किसानों का हो आच्छादित

डीएम ने उपस्थित सभी अधिकारियों और कर्मियों को कहा कि किसानों के हित में सभी अधिकारी व कर्मी पूरी जवाबदेही से कैंप में केसीसी से शत प्रतिशत किसानों को आच्छादित करें. इस कार्य में कोताही एवं लापरवाही कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी. उन्होंने कहा की केसीसी से लाभान्वित करने में बैंक अधिकारियों की महती भूमिका है. कैंप में प्राप्त पंचायत वार आवेदनों को नियमानुसार कार्रवाई कर किसानों को लाभान्वित करें.

न्यूनतम 300 किसानों का लक्ष्य निर्धारित

इसके लिए जिलाधिकारी ने प्रत्येक पंचायत के लिए न्यूनतम 300 किसानों का लक्ष्य निर्धारित किया है तथा प्रत्येक प्रखंड विकास पदाधिकारी से प्रखंड स्तर पर विस्तृत प्रतिवेदन की मांग की गई. साथ ही बैंक अधिकारी भी प्राप्त आवेदन, स्वीकृत एवं अस्वीकृत आवेदन के स्थिति के संदर्भ में जिलाधिकारी को प्रतिवेदन देंगे.

 फसल सहायता हेतु 95,000 आवेदन प्राप्त हुए

वहीं जिला कृषि पदाधिकारी ने विस्तृत रूप से फसल सहायता योजना के संदर्भ में जानकारी दी तथा बताया कि जिला स्तर पर 95000 आवेदन फसल सहायता योजना हेतु प्राप्त हुए हैं जिसमें रैयत एवं गैर रैयत शामिल है. बैठक में इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के संदर्भ में प्रकाश डालते हुए डाक विभाग के डाक अधीक्षक ने कहा कि आपका बैंक आपके द्वार अभियान के तहत गांव और पंचायतों में डाकिया जाकर इच्छुक व्यक्ति का खाता खोल रहे हैं. उन्होंने इस तकनीक का सहारा लेकर आम लोगों को लाभ उठाने को कहा. जिलाधिकारी ने इस महत्वपूर्ण योजना का व्यापक प्रचार प्रसार जन-जन में करने तथा लोगों को लाभान्वित करने का निर्देश दिया.

इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि अब किसी भी विभाग के योजना के प्रगति की समीक्षा लगातार किसी जिला स्तरीय अधिकारी द्वारा जिला मुख्यालय से प्रखंड स्तरीय अधिकारियों एवं कर्मियों से की जाएगी. विदित हो की जिला मुख्यालय से प्रतिदिन प्रखंड स्तरीय अधिकारियों एवं कर्मियों की हाजिरी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा ली जाती है. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में उप विकास आयुक्त शशांक शुभंकर, जिला भू अर्जन पदाधिकारी संजीव कुमार सिंह, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी प्रमोद कुमार,  जिला कृषि पदाधिकारी संजय नाथ तिवारी, जिला प्रोग्राम प्रबंधक जीविका संजय पासवान, जिला अग्रणी प्रबंधक सहित कई अधिकारी मौजूद थे.

About परमबीर सिंह 3 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*