आंगनबाड़ी सेविका की मनमानी से बाल विकास की योजना हवा-हवाई

बगहा(सेमरा/जयप्रकाश): सुशासन की सरकार शराबबंदी पर अपनी पीठ स्वयं थपथपा रही है. परंतु सुदूर वनवासी क्षेत्र में बाल विकास की योजना की हवा निकल रही है. मामला बगहा दो प्रखंड के पैकवालिया मर्यादपुर पंचायत अंतर्गत ग्राम धकधईया वार्ड 7 के आंगनवाड़ी केंद्र 94 की है. मालूम हो कि वर्ष 2004 में उक्त केंद्र की भूमि पैमाइश के बाद भवन का निर्माण करीब 4 वर्ष पूर्व हुआ था, लेकिन आंगनवाड़ी सेविका की मनमानी से केंद्र का संचालन बंद है.


भूमिदाता का कहना है
भूमि दाता रामाशंकर यादव बताते हैं कि वर्ष 2004 में भूमि की पैमाइश हुई .करीब 4 वर्ष पूर्व भवन भी बनकर तैयार हो गया. भवन का विभागीय हस्तांतरण भी हो चुका है. केंद्र 94 की सेविका शाहिना खातून केंद्र का संचालन नहीं करती. पहले भूमि फिर भवन की कमी बताकर वह पूर्व स्थान पर ही केंद्र का संचालन करती थी लेकिन आज सब कुछ पूरा होने के बावजूद मनमानी करती हैं.
विभागीय सूचना बेअसर
स्थानीय ग्रामीण शमीम अंसारी का कहना है कि सेविका शमीमा खातून केंद्र पर आज तक उपस्थित नहीं हुई. न ही कभी पोषक तत्वों का वितरण किया गया. विभागीय स्तर पर केंद्र को आवंटित पोषक तत्वों का क्या होता है, मालूम नहीं चलता. हालांकि मामले की शिकायत जिलाधिकारी बेतियां के जनता दरबार पत्रांक संख्या 1176 दिन/आई सी डी एस, बगहा, दिनांक 23/12/014 प्राप्ति दिनांक 24/12/014, समेत एसडीएम बगहा धर्मेंद्र कुमार क्रमशः 28/12/014 एवं 2/01/017 तथा 3/02/017 को मामले में लिखित प्रतिवेदन दिया गया. सीडीपीओ बगहा 2 को 31/08/016 व 9/09/016 तथा प्रखंड विकास पदाधिकारी बगहा 2 को दिनांक 9/09/ 2016 को लिखित प्रतिवेदन सौंप कर आंगनवाड़ी केंद्र संचालन की गुहार लगाई गई थी.

वहीं प्रखंड विकास पदाधिकारी के पत्रांक 416 /दिनांक13/08/015 के आदेश के आलोक में केंद्र की भूमि भवन की बिंदुवार जांच स प्र पदाधिकारी बगहा 2 द्वारा की गई और केंद्र के सभी पहलुओं को जांच में सत्य पाया गया. परंतु आज तक केंद्र का संचालन नहीं हो सका.


सेविका कहती हैं
सेविका शाहिना खातून का कहना है कि धकधईया रेवेन्यू गांव है. इसमें दो टोले बंजरिया एवं खुरखुरवा है. वर्ष 2004 में केंद्र का संचालन खुरखुरवा राजकीय विद्यालय में सर्वप्रथम शुरू हुआ .बाद में तत्कालीन मुखिया द्वारा वार्ड 7 मे एक नये केंद्र का सृजन विभागीय आदेश पर हुआ. जो केद्र संख्या 246 है. जबकि मेरा केंद्र 94 खुरखुरवा टोला के पोषक क्षेत्र में पहले से संचालित है. जबकि केद्र 94 की सहायिका का कहना है की विगत चार साल से हम और बच्चे केंद्र पर आते हैं और लौट कर चले जाते हैं. यहां किसी प्रकार की शिक्षा और राशि लाभ किसी को नहीं प्राप्त होता है.
सीडीपीओ बगहा 2 का बयान
सीडीपीओ बगहा 2 शबीना अहमद ने मामले में कुछ भी कहने से मना कर दिया. बस इतना ही कहा कि इस.मामलें में वरीय पदाधिकारियों से बयान लेंगे. पदाधिकारियो के आदेशानुसार कार्यवाही की जायेगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*