भू-माफियाओं की गिरफ्त में हैं हल्का कर्मचारी, अटार्नी चलाते हैं हल्का कर्मचारी का कार्यालय

बगहा : अनुमंडल क्षेत्र के विभिन्न जगहों पर हल्का कर्मचारियों का कार्यालय अटार्नी के भरोसे चलता है. यहां कर्मचारियों की मिली भगत से अवैध उगाही होती है. कर्मचारी यहां महीने में मात्र एक सप्ताह की ड्यूटी करने पहुंचते हैं. वजह यह है कि जो भी लोग अपनी जमीन की रसीद कटवाने कर्मचारी के पास जाते हैं तो वहां अटार्नी यह कहने से जरा भी नहीं हिचकता है कि साहेब क्षेत्र में निकले हैं.
हालांकि अटार्नी पहले लोगों की रसीद काटने से परहेज करता है लेकिन बाद में पैसे की डिमांड पूरी हो जाती है तो रसीद काटकर थमा दिया जाता है. बताते चलें कि अनुमंडल क्षेत्र के बहुतेरे कार्यालयों में एक की जगह दो—दो अटार्नी रखे गए हैं. इन अटार्नियों की वजह से दिन—प्रतिदिन भूमि से संबंधित विवाद भी बढ़ रहे हैं. लेकिन आला अधिकारी चुप्पी साधे बैठे हैं. हल्का कर्मचारियों की इस जिला में कमी है.
बताते चलें कि पूर्व में कुछ अटार्नी फर्जीवाड़े के आरोप में जेल भी जा चुके हैं जिसका नमूना चौतरवा थाने के परसौनी पडरी गांव में दिखा. यहां हल्का कर्मचारी का कार्यालय अटार्नी के ही भरोसे चलता है.
वहां के दर्जनों ग्रामीणों ने बताया कि कर्मचारी साहेब कभी-कभार ही आते हैं. भीतहा, मधुबनी, पिपरासी समेत विभिन्न जगहों के हल्का कर्मचारी के कार्यालय में अटार्नियों का कब्जा है जिसको लेकर ग्रामीणों में आक्रोश बढ़ चला है. उल्लेखनीय है कि एक कर्मचारी के भरोसे तीन हल्का विभाग काम कर रहा है. वहीं हल्का कर्मचारी किशोर राम ने बताया कि अधिक हल्का मिलने की वजह से तीन अटार्नी रखे गए हैं जिसमें हल्का 10-11-12 में रघुनाथ पासवान, रामजी प्रसाद, अखिलेश प्रसाद को रखा गया है. वहीं एक अटार्नी ने बताया कि कुछ पैसे कर्मचारी साहब देते हैं तथा कुछ रसीद कटाने आने वाले लोग अपनी स्वेच्छा से देते हैं. इससे बड़े मजे से काम चल जाता है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*