कर्म का फल अकाट्य है…

बेतिया/बगहा : कालीबाग, बेतिया में हो रहे गायत्री महायग्य के दूसरे दिन सुबह हवन यज्ञ में सैकड़ों श्रद्धालुओं ने भाग लिया. सायंकाल कथावाचक सुनील शर्मा ने कथा के माध्यम से बताया कि हम कर्म करने में स्वतंत्र हैं, परन्तु कर्म का फल भोगने स्वतंत्र नही है.

उन्होने कहा कि कर्म का फल भगवान नहीं बल्कि हमारे कर्म ही देते हैं. उन्होंने कहा कि जैसा हमारा संस्कार होता है, वैसा ही हमारे विचार होते हैं, वैसा हमारा कर्म होता है. कथा में जिले के हजारों श्रद्धालु उपस्थित थे. इस अवसर पर मुख्य ट्रस्टी अजय श्रीवास्तव, जिला समन्वयक डा. द्विवेदी शशीभूषण शर्मा, मिथलेश द्वीवेदी, आयोजन समिति के संयोजक अनुपम श्रीवास्तव, रवीश कुमार, संजीव कुमार, आलोक वर्मा, द्वारिका प्रसाद सनेही, सुरेश चन्द्र श्रीवास्तव, फौजदार महतो प्रवीण कुमार, सुनील कुमार प्रसाद, प्रदीप साह, अजय तिवारी, मनी साह, जितेन्द्र कुमार, देवेन्द्र प्रसाद सहित सभी गायत्री साधक एवं श्रद्धालु उपस्थित थे.

bagha2

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*