जनसेवा एक्सप्रेस 31 मार्च तक रद्द,सबसे ज्यादा राजस्व देने वाली इस ट्रेन को रेलवे कर रखी है बंद

रेल सूत्रों ने बताया कि पूर्व से रद्द चल रही सभी ट्रेनों को 31 मार्च तक रद्द कर दिया गया है

बेगूसराय : एक सीट पर चार की जगह आठ यात्री, एक शौचालय में छह यात्री, गेट से लेकर ट्रेन के सीलिंग तक लटके यात्री, यह पहचान भारतीय रेल में सबसे ज्यादा राजस्व देने वाली ट्रेन जनसेवा एक्सप्रेस का है. सालोभर यात्रियों से ठसाठस भरी गुजरने वाली जनसेवा एक्सप्रेस पिछले दो माह से बंद है.

रेलवे इस ट्रेन को कोहरे के कारण बंद कर रखी है. हाल ऐसे हैं कि हर रोज सैकड़ो यात्री इस ट्रेन के समय पर यात्रा करने अब भी हर रोज पहुंच रहे हैं. ट्रेन रद्द रहने की सूचना स्टेशन पर मिलते ही यात्री मायूस हो या तो घर लौट जा रहे हैं या फिर दूसरी ट्रेन की प्रतीक्षा में बैठे रह रहे हैं. सबसे मजे की बात यह है कि जनसेवा एक्सप्रेस के बंद करने से अमृतसर के लिए एक भी ट्रेन नहीं है. अगर ट्रेन है भी तो साप्ताहिक गरीब रथ जैसी एसी एक्सप्रेस है.

इन ट्रेनों में सफर करना मजदूर वर्ग के यात्रियों के वश से बाहर हो जा रहा है. मजबूरन इन यात्रियों को दूसरे स्टेशन से वेटिंग ही सही आरक्षण टिकट लेकर उसी तरह नीचे बैठकर या फिर जेनरल बेागी में सफर करना पड़ता है. बावजूद रेलवे इस ट्रेन को रद्द् कर इन यात्रियों की परेशानी बढ़ा ही दी है, साथ ही रेल राजस्व की भी हानी हो रही है. इस ट्रेन की महत्ता वहीं जान सकते है, जिस रुट से यह ट्रेन चला करती है. ट्रेन के टिकट चेकर बताते हैं कि इस ट्रेन में शत प्रतिशत यात्री टिकट लेकर चलते हैं.

ट्रेन के शौचालय में बैठ सफर करने वाले यात्री भी सुपर फास्ट टिकट लेकर चलते हैं. सहरसा से अमृतसर के बीच चलने वाली जनसेवा एक्सप्रेस 15 फरवरी की जगह अब 31 मार्च तक रद्द रहेगी. इसकी अधिसूचना रेलवे द्वारा जारी कर दी गई है. कोहरे के कारण पहले इस ट्रेन को 15 फरवरी तक के लिए रद्द किया गया था. वर्तमान में एक्सटेंशन करते हुए अब 31 मार्च तक कर दिया गया है.