बेगूसराय एसपी अवकाश कुमार का दिखा एक्शन, शूटआउट के बाद क्रिमनल्स में हड़कंप

मुंगेर रेंज के DIG मनु महाराज बेगूसराय पहुँचे और पुलिस अधिकारियों के साथ इलाके में सर्च ऑपरेशन किया और पूरे घटनाक्रम की ली जानकारी

बेगूसराय(सुधांशु पाठक) : शनिवार को जब पुलिस को सीक्रेट सूचना मिली कि चेरिया बरियारपुर इलाके में कुछ दुर्दांत क्रिमलन्स बड़े क्राइम करने की फिराक में एकत्रित हुए हैं तो SP अवकाश कुमार पूरे जिले की पुलिस को अलर्ट मोड में कर दिया. जगह जगह रेड शुरू की गई. इसी बीच क्रिमलन्स का सही लोकेशन चेरिया बरियारपुर बहियार इलाके में मिली.  SP अपने कार्यालय में बैठकर अपराधियों के ऐक्टिविटी पर नजर बनाए हुए थे. सटीक सूचना मिलते ही उन्होंने ऑपरेशन ASP अमृतेश कुमार के नेतृत्व में एक हाई लेवल टीम गठित कर अपराधियों की अरेस्टिंग के लिए दिन के करीब 1:30 बजे रवाना कर दिया.

पुलिस टीम लगभग 2:20 बजे चेरिया बरियारपुर पहुँचकर अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए नाकेबंदी कर दी. पहले तो अपराधियों को सरेंडर करने को कहा लेकिन अपराधियों ने पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी. इसमें साइबर सेल में कार्यरत एक दारोगा के कान के करीब से गोली निकल गई. फिर क्या था पुलिस द्वारा भी जवाबी फायरिंग शुरू कर दी गई. इसी क्रम में दोनों तरफ से जमकर गोलीबारी शुरू हो गई. जानकारी मिलते ही SP अवकाश कुमार एवं एडिशनल SP मनोज तिवारी भी स्पॉट पर पहुँचें.

जानकारी के मुताबिक अपराधियों के तरफ से लगभग 20-25 गोली एवं पुलिस की ओर से लगभग 30-35 राउंड गोली चली. जिसमें तीन अपराधियों को गोली लगी और वह घायल हो गया. पुलिस ने तीनों अपराधियों को इलाज के लिए शाम करीब 6 :40 बजे चेरिया बरियारपुर PHC लाया गया जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया. अपराधियों की पहचान नगर थानाक्षेत्र के सर्वोदयनगर निवासी कुख्यात सुमन्त कुमार उर्फ सुमंता, लाखो ओपी इलाके के धबौली निवासी कुख्यात धर्मा यादव एवं चांदपुरा थानाक्षेत्र के बनद्वार निवासी बलराम सहनी के रूप में की गई.

सबके लिए सिरदर्द थे तीनों कुख्यात

मारे गए अपराधियों में सुमंता पर हत्या, रंगदारी, आर्म्स एक्ट के 6 से अधिक मेजर क्राइम का मामला दर्ज है. आपको बता दें कि सुमंता एक साइको टाइप का क्रिमनल था जो बात बात पर ही लोगों को परलोक भेज देता था. यही नही पुलिस से भी नही डरता था. हाल ही में उसने बेगूसराय के तत्कालीन टाउन थानेदार सुनील सिंह एवं ASP मिथिलेश कुमार भी फायरिंग की थी हालांकि वे बाल बाल बच गए. जानकारों की माने तो सुमंता सुपारी लेकर मर्डर करने में माहिर था.

जिला पुलिस उसके अरेस्टिंग के लिए पिछले कई महीनों से ऐक्टिव थी. बिहार, झारखंड, दिल्ली समेत अन्य राज्यों में भी पुलिस रेड की थी पर वह भनक लगते ही फरार हो जाता था. पुलिस हेडक्वाटर सूत्रों के मुताबिक बेगूसराय पुलिस सुझाव दिया गया था कि उसके अरेस्टिंग के टाइम फूल पॉजिशन में रहें. इसी प्रकार धर्मा यादव का भी दहशत था. इस अपराधी पर हत्या,रंगदारी, लूट, फिरौती, अपहरण से रिलेटेड करीब 2 दर्जन से अधिक संगीन मामले दर्ज हैं. वहीं बलराम सहनी के ऊपर हत्या और अपहरण के 2 मामले दर्ज हैं.

 घटना के बाद मनु महाराज भी पहुँचे

मुठभेड़ की सूचना मिलते ही मुंगेर रेंज के DIG मनु महाराज भी बेगूसराय पहुँचे और पुलिस अधिकारियों के साथ इलाके में सर्च ऑपरेशन किया और पूरे घटनाक्रम की जानकारी ली.

जिला पुलिस की हो रही प्रशंसा

मुठभेड़ की जानकारी मिलते ही सोशल मीडिया के माध्यम से अमन पसंद लोग जिला पुलिस खास कर SP अवकाश कुमार, ऑपरेशन ASP अमृतेश कुमार एवं एडिशनल ASP मनोज तिवारी की लगातार प्रशंसा कर रहे हैं. राजनीतिक दलों नेता, समाजिक कार्यकर्ता, और सभ्य समाज के शांति पसंद लोगों ने पुलिस को साधुवाद दिया है.

 अपराधियों में दहशत, कई कुख्यात ले कबड्डी पार

इस बड़ी कार्रवाई के बाद जिले के अपराधियों में दहशत का माहौल हो गया है, सूत्र बताते हैं कि रातों ही रात कईयों ने जिला छोड़ झोला झक्कड़ के लेकर भाग गए हैं.