गीता संदेश

चन्दनं शीतलं लोके,चन्दनादपि चन्द्रमाः |

चन्द्रचन्दनयोर्मध्ये शीतला साधुसंगतिः ||

-श्रीमद्भागवत गीता

अर्थ:-

संसार में चन्दन को शीतल माना जाता है लेकिन चन्द्रमा चन्दन से भी शीतल होता है | अच्छे मित्रों का साथ चन्द्र और चन्दन दोनों की तुलना में अधिक शीतलता देने वाला होता है |

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*