मेजर गोगोई की मुश्किलें बढ़ी, लड़की की मां ने लगाया आरोप- आधी रात को घुस आते थे घर में

मेजर गोगोई , इंडियन आर्मी, Major Leetul Gogoi , Major Gogoi , Indian Army , ADGPI, Major Gogoi custody , Major Gogoi Girl , Major Gogoi Hotel, Hotel Girl , मेजर गोगोई हिरासत , Jammu and Kasmir crime ,jammu city crime , jammu crime , jammu and kashmir crime,

लाइव सिटीज डेस्क : जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में एक होटल में मेजर लीतुल गोगोई द्वारा लड़की संग घुसने के मामले में अब एक नया मोड़ आ गया है. महिला के परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि मेजर गोगोई और ड्राइवर समीर घर में बेवजह घुस आए थे और इस दौरान ये दोनों सिविल ड्रेस में थे. लड़की की मां ने बताया कि मेजर गोगोई उसके घर में अक्सर आया करते थे. पूरी कहानी बताते हुए उन्होंने कहा कि पहली बार मेजर गोगोई अपने ड्राइवर समीर के साथ रात में आए थे. समीर वहां का स्थानीय निवासी है.

क्या है पूरा मामला

बता दें कि बुधवार को एक होटेल में घुसने को लेकर हुए विवाद के बाद मेजर गोगोई को पुलिस ने थोड़ी देर के लिए हिरासत में ले लिया था. बडगाम में रहने वाली महिला की मां ने हमारे सहयोगी अखबार इकनॉमिक टाइम्स को बताया, ‘आर्मी के लिए काम करने वाला समीर 20 दिन पहले आधी रात को हमारे घर में जबरन घुस आया, उसके साथ मेजर गोगोई भी थे. इन लोगों ने हमसे पूछा कि हमें कोई धमका तो नहीं रहा! मैं समझ नहीं पाई कि वह क्या कह रहे हैं. वे तुरंत चले भी गए. मेरी बेटी को फंसाया जा रहा है, वह अभी बच्ची है.’

यह भी पढ़ें : कश्मीरी नागरिक को जीप में बांधने वाले मेजर गोगोई पर लगे हैं गंभीर आरोप, हिरासत में

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘महिला का बयान मैजिस्ट्रेट के सामने दर्ज कर लिया गया है. हालांकि, अभी तक कोई केस नहीं दर्ज किया गया है. हम जांच कर रहे हैं कि अगर कुछ मिलता है तो हम आगे की कार्रवाई करेंगे.’

कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी का आदेश

इधर थलसेना प्रमुख जनरल विपिन रावत के शुक्रवार को मेजर गोगोई के दोषी होने पर कठोर सजा दिए जाने के संकेत के कुछ ही देर बाद सैन्य प्रशासन ने पूरे मामले में कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी का आदेश जारी कर दिया. मेजर गोगोई को सेना की 53 आरआर से हटाते हुए चिनार कोर मुख्यालय में अटैच कर दिया गया है, जबकि उनके कमांडिंग ऑफिसर को भी लापरवाही बरतने के कारण 53 आरआर की कमांड से हटाकर राज्य से बाहर किसी अन्य वाहिनी में अंडर कमांड पोस्टिंग पर भेजे जाने की तैयारी है.

नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा

संबंधित अधिकारियों की मानें तो बेशक मेजर के खिलाफ कोई आपराधिक मामला नहीं बनता हो, लेकिन सैन्य नियमों के तहत उनके लिए दंड से बचना मुश्किल है. उन्होंने वादी में तैनात सैन्य अधिकारी व जवानों के लिए घोषित स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर का तथाकथित तौर पर स्पष्ट रूप से उल्लंघन किया है. संबंधित अधिकारियों ने बताया कि अगर मेजर लीतुल गोगोई दोषी साबित होते हैं तो न सिर्फ उन्हें अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा बल्कि सात साल की कैद भी भुगतनी पड़ेगी.

आपको बता दें कि श्रीनगर में मेजर गोगोई ने अप्रैल 2017 में फारूक अहमद डार नामक आदमी को अपनी जीप के सामने बांधकर घुमाया था. इसके बाद उनके खिलाफ ऐक्शन की मांग करते हुए प्रदर्शन भी हुए थे. हालांकि मोदी सरकार की तरफ से मेजर गोगोई को इस काम के लिए वीरता का पुरस्कार भी दिया गया है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*