लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : पूर्व वित्तमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली पंचतत्व में विलीन हो गए हैं. निगमबोध घाट पर दोपहर तीन बजे उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया गया. बेटे रोहन ने उन्हें मुखाग्नि दी. उनका अंतिम संस्कार दिल्ली के निगम बोध घाट पर राजकीय सम्मान के साथ किया गया.

इस दौरान घाट पर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ कई मंत्री मौजूद रहें. वहीं, जेटली के पार्थिव शरीर को भाजपा मुख्यालय में रखा गया था. जहां से उनके पार्थिव शरीर को घाट पर ले जाया गया.

इससे पहले शनिवार को जेटली के आवास पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, अमित शाह, राजनाथ सिंह, लालकृष्ण आडवाणी, मनमोहन सिंह, राहुल गांधी, सोनिया गांधी, अरविंद केजरीवाल, डॉ. हर्षवर्धन, चंद्रबाबू नायडू समेत कई नेता श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे.

67 सील की उम्र में अरुण जेटली ने अपनी अंतिम सांस ली. 9 मई को सांस लेने में तकलीफ होने के कारण अरुण जेटली को एम्स में भर्ती कराया गया था. आपको बता दें कि पिछले साल 14 मई को एम्स में उनके गुर्दे का प्रत्यारोपण भी हुआ था.

जेटली के 66 साल

  • जन्म: 28 दिसंबर, 1952
  • 1973 : दिल्ली के श्रीराम कॉलेज से स्नातक.
  • 1974 : दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्र संघ के अध्यक्ष बने.
  • 1975 : आपातकाल के दौरान गिरफ्तार किए गए.
  • 1977 : दिल्ली यूनिवर्सिटी से कानून की डिग्री ली. वकालत शुरू की. एबीवीपी के अखिल भारतीय सचिव बनाए गए.
  • 1980 : भाजपा में शामिल हुए.
  • 1990 : एडिशनल सॉलिसिटर जनरल बने. बोफोर्स केस में दलीलें दीं.
  • 1991 : भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में शामिल.
  • 1998 : यूएन आमसभा में भारतीय प्रतिनिधिमंडल में शामिल हुए.
  • 1999 : वाजपेयी सरकार में सूचना एवं प्रसारण (स्वतंत्र प्रभार) के साथ विनिवेश मंत्रालय भी संभाला.
  • 2000 : राज्यसभा पहुंचे। इसके साथ ही कानून मंत्रालय का प्रभार भी संभाला।
  • 2006 : पुन: राज्यसभा सांसद निर्वाचित किए गए.
  • 2009 : राज्यसभा में विपक्ष के नेता बने। वकालत छोड़ी.
  • 2012 : तीसरी बार राज्यसभा सांसद बने.
  • 2014 : मोदी सरकार में वित्त के साथ रक्षा मंत्रालय का प्रभार भी संभाला.
  • 2018 : किडनी ट्रांसप्लांट हुआ.
  • 24 अगस्त 2019 : दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन.