वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का बड़ा एलान, देश के दस बड़े बैंकों का होगा विलय

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : भारतीय इकोनॉमी की सुस्‍ती को दूर करने के लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण शुक्रवार को बार फिर मीडिया से मुखातिब हुईं. वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को देश के 10 बैंको के विलय का एलान किया. इसके अलावा उन्‍होंने बताया कि हमारी सरकार 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने के लिए प्रयास कर रही है.

वित्तमंत्री ने 10 बैंको को मिलाकर 4 बड़े बैंक बनाने का एलान किया. पहला विलय पंजाब नेशनल बैंक, यूनाईटेड बैंक और ओरियंटल बैंक का होगा. दूसरा विलय यूनियन बैंक, कॉरर्पोरेशन बैंक और आंध्रा बैंक का होगा. तीसरा विलय केनरा बैंक और सिंडिकेट बैंक और चौथा विलय इंडियन बैंक और इलाहाबाद बैंक का होगा. इस विलय के बाद देश को 7वां बड़ा PSU बैंक मिलेगा.

निर्मला सीतारमण के एलान के बाद 12 PSBs बैंक रह गए हैं. साल 2017 में पब्लिक सेक्टर के 27 बैंक थे. इस दौरान वित्तमंत्री ने कहा कि पब्लिक सेक्टर के 18 बैंक में से 14 बैंक फायदे में है.

वित्त मंत्री ने बताया कि मर्जर के दौरान पंजाब नेशनल बैंक को लगभग 16,000 करोड़, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया को 11,700 करोड़, बैंक ऑफ बड़ौदा को 7,000 करोड़, केनरा बैंक को 6,500 करोड़ रुपये, इंडियन बैंक को 2,500 करोड़ रुपये मिलेंगे. इसके अलावा इंडियन ओवरसीज बैंक को लगभग 3,800 करोड़, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया 3,300 करोड़, यूको बैंक 2,100 करोड़ रुपये, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया को 1,600 करोड़ और पंजाब ऐंड सिंध बैंक को 750 करोड़ रुपये मिलेंगे.

निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकारी बैंकों के विलय से कर्मचारियों की कोई छंटनी नहीं होगी. उन्होंने कहा, विलय से छंटनी की आशंका नहीं है.

ये भी पढ़ें : बिहार में 12 ब्रांड के पान मसाले बैन, खरीद-बिक्री और सेवन पर सरकार ने लगाया रोक

ये भी पढ़ें : पटना जू में आए कई नए मेहमान, जू प्रशासन ने तस्वीर जारी कर दी जानकारी