बड़ी खबर: लोजपा कार्यालय के बाहर भिड़ गए चाचा-भतीजा के समर्थक, जमकर हुई मारपीट…पुलिस ने संभाला मोर्चा

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: पटना लोजपा कार्यालय में चिराग और पशुपति पारस के समर्थकों के बीच जमकर मारपीट हुई. जैसे ही पशुपति पारस का काफिला पार्टी कार्यालय में प्रवेश करने लगा तो चिराग समर्थकों ने काला झंड़ा दिखाना शुरू कर दिया. पशुपति पारस के खिलाफ नारेबाजी करने लगे. इस दौरान वहां मौजूद पारस समर्थकों ने उनका विरोध किया. देखते ही देखते ही दोनों ओर से हाथापाई शुरू हो गयी. मामला बिगड़ता देख मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने बीच बचाव किया तब जाकर मामला शांत हुआ.

इधर पटना पहुंचते ही चाचा पशुपति कुमार पारस ने साफ-साफ कह दिया कि बहुमत जिसके पास होगी उसी का ‘बंगला’ पर कब्जा होगा. पार्टी कार्यालय में पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि चिराग पासवान को पार्टी के संविधान की जानकारी नहीं है. इसलिए लोकसभा की ओर से दी गयी मान्यता के बारे में इस प्रकार की बातें कर रहे हैं.

मुझे पार्टी के पांच सांसदों का समर्थन प्राप्त है. इसी के आधार पर लोकसभा की ओर से मुझे दल का नेता की मान्यता दी गयी है. इसमें पार्टी पार्लियामेंट्री बोर्ड की बात मान्य नहीं होगी. हमलोगों ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक कर चिराग पासवान को अध्यक्ष पद से हटा दिया है. पार्टी के संविधान में यह प्रावधान है कि एक व्यक्ति एक पद होगा. लेकिन चिराग एक व्यक्ति कई पद पर आसीन थे.

पशुपति कुमार पारस ने आगे कहा कि कल कार्यकारी अध्य़क्ष सूरजभान सिंह के आवास पर राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक होगी. जिसमें पार्टी के अध्यक्ष पद का चुनाव होगा. रही बात लोजपा पर कब्जे की तो जिसके पास बहुमत होगा उसी का कब्जा होगा. पार्टी के पांच सांसद मेरे साथ है.

उधर कार्यकारी अध्यक्ष सूरजभान सिंह ने कहा कि पार्टी में किसी भी तरह के मतभेद नहीं है. चिराग ने बहुत दिनों तक पार्टी चलाया, अब चाचा को चलाने का मौका मिलना चाहिए. हम पार्टी और परिवार दोनों को बचाएंगे. लोजपा कल भी चिराग की पार्टी थी, आज भी उन्हीं की पार्टी है. इसमें विवाद की बात कहां आती है.

बता दें कि लोजपा संसदीय दल का नेता चुने के बाद पहली बार पशुपति कुमार पारस पटना पहुंचे. पटना एयरपोर्ट पर समर्थकों ने उनका भव्य स्वागत किया. बैंड-बाजा के साथ कार्यकर्ताओं ने उनकी आगवानी की. स्वागत के लिए पशुपति समर्थकों में काफी जोश देखने को मिला. पशुपति के साथ कार्यकारी अध्यक्ष सूरजभान सिंह भी मौजूद रहे. एयरपोर्ट के बाहर उन्होंने हाथ हिलाकर अपने समर्थकों का अभिवादन किया.