लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार के सियासी हलकों में इन दिनों कुछ अलग ही बयार चल रही है. कल एनपीआर और एनआरसी को लेकर सीएम नीतीश कुमार ने विधानसभा में प्रस्ताव पारित करवा दिया था. तेजस्वी से हंसते-हंसते हुए कई बातें भी हुईं थी. सत्र शुरु होने से पहले और बाद में दोनों नेताओं की मुलाकात भी हुई थी.

सदन में जब चर्चा हो रही थी तब तेजस्वी ने कहा कि मुझपर भी केस करवा दिया है. तो सीएम नीतीश ने कहा था कि भई! हमने थोड़े करवाया है. केंद्र सरकार ने करवाया है.

बिहार के लोगों पर कर्ज बढ़ा

बिहार की सियासत में तेजस्वी ने अब एक नया बयान दिया है जो न सिर्फ बहुत बड़ा है बल्कि सियासी गलियारों में बड़ा उलटफेर की संभावना लेकर भी आया है. तेजस्वी ने कहा – नीतीश कुमार को हम पीए मेटेरियल मानते हैं. दरअसल विधानसभा के बजट सत्र के तीसरे दिन आज भी नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव बोल रहे थे. इस दौरान उन्होंने कहा कि 15 साल में बिहार अभी भी गरीब है. 2004 में प्रति व्यक्ति पर कर्ज सिर्फ 5000 रुपया था और अब 1.15 लाख है.

नीतीश कुमार को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी को हम अविभावक मानते हैं. वो क्यों नहीं बताते हैं कि कक्षा 9-10 में जाते-जाते कितने फीसदी छात्र ड्रॉप आउट होते हैं. सरकार पर सवाल उठाते हुए उन्होंने अपने चिर-परिचित अंदाज में पूछा कि डबल इंजन की सरकार है तो फिर भी बिहार पीछे कैसे है.

मूंछ और तोंद वाले बाहर घूम रहे हैं

नीति आयोग की रिपोर्ट का चर्चा करते हुए तेजस्वी ने कहा कि बिहार अब भी फिसड्डी राज्य है. बिहार में मुख्यमंत्री जी के पास ही गृह मंत्रालय है और बिहार अपराध में अव्वल है. मुजफ्फरपुर बालिका गृह पर भी तेजस्वी ने कहा कि इतना घिनौना काम हुआ वहां लेकिन अभी भी कई मूंछ और तोंद वाले बाहर घूम रहे हैं. बिहार में आज 7 करोड़ लोग बेरोजगार हैं

नीतीश कुमार से सवाल करते हुए तेजस्वी ने कहा कि मुख्यमंत्री जी 15 साल बनाम 15 साल की बात करते हैं तो वो ही बताएं कि विशेष राज्य का दर्जा अब तक क्यों नहीं मिला. एनडीए की सरकार में 55 घोटाले हुए हैं लेकिन अब तक कोई भी मंत्री जेल नहीं गया.

विधानसभा में तेजस्वी को बोले नीतीश कुमार, बैठ जाओ, मेरे ऊपर सिर्फ तुम्हारे पिता बोल सकते हैं