तुलसी की कंठी पहने मथुरा पहुंचे तेज प्रताप, बरसे PM मोदी पर, पिता लालू की खूब की तारीफ

politics,news,state,Bihar politics, Patna politics, RJD supremo, Lalu prasad yadav, Tejpratap yadav, Mathura visit, तेजप्रताप यादव, मथुरा, लालू यादव,
तेज प्रताप यादव (File Pic)

लाइव सिटीज डेस्क: बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव भगवान कृष्ण के कितने बड़े भक्त हैं यह बताने की जरुरत नहीं है. कृष्ण की भक्ति में एक बार फिर वह मथुरा पहुंचे हैं. वहां से वह ब्रजरज गये. इस दौरान तेजप्रताप ने परंपरागत वेशभूषा धोती-कुर्ता, तुलसी की कंठी पहने हुए थे. साथ ही तेजप्रताप यादव के मित्रों की पूरी मंडली भी इसी वेशभूषा में थी. तेज प्रताप ने बताया कि वह भगवान कृष्ण के वंशज हैं और यहां पिछले 15 वर्ष से श्रीवृन्दावनी फाउंडेशन बनाकर भगवान श्रीराधाकृष्ण की लीलास्थलियों के संरक्षण और विकास कार्यों में जुटे हैं. रमेश बाबा के साथ ब्रम्हांचल पर्वत के संरक्षण में भी उन्होंने सहयोग दिया था.

केंद्र सरकार पर जमकर बरसे तेजप्रताप

यहां तेजप्रताप केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर जमकर बरसे और कहा कि वर्तमान सरकार ने गरीबों को पूरी तरह नकार कर सिर्फ उद्योगपतियों को सिर पर बिठाया है. 2019 में देशभर से भाजपा का सफाया हो जाएगा. उन्होंने कहा कि माल्या जैसे उद्योगपतियों को प्रधानमंत्री मोदी का संरक्षण मिला हुआ है. उन्हें पकड़कर वापस लाना चाहिए, जो गरीबों का पैसा लेकर फरार हैं. देश में कहीं भी महिला सुरिक्षत नहीं है.

पिता की खूब तारीफ की

तेजप्रताप ने कहा कि उनके पिता जब रेलमंत्री थे, तब रेलवे को जमीनी स्तर से जोड़ने के लिए कुल्हड़ों, खादी के पर्दे आदि के सफल प्रयोग कर मुनाफा कमाया था और कुलियों का नियमितीकरण शुरू किया था. अब रेलवे के हालात और कुलियों की दशा बदतर है. वह राजधानी एक्सप्रेस की दिल्ली से पटना की बुधवार की टिकट बनवाकर बरसाना लौट गए.

पिता लालू यादव जब रेलमंत्री थे, तब पहली बार उनका ब्रज आना हुआ. उसके बाद ब्रज के प्रति उनका प्रेम बढ़ता गया. वह चुपचाप अपने चुनिंदा साथियों के साथ आते हैं और वृंदावन के अग्रसेन भवन में रुकते हैं. यहां से अलसुबह ही बरसाना निकल जाते हैं. इस भूमि पर उनका पूरा दिन बीतता है.

यह भी पढ़ें- SC-ST एक्ट पर सवर्णों के विरोध को जायज बताने वाली खबर को तेज प्रताप यादव ने बताया फर्जी

बता दें कि भगवान कृष्ण के दीवाने हो चुके तेजप्रताप यादव बीते एक वर्ष में दर्जनभर से अधिक बार कान्हा की भूमि पर आ चुके हैं. उनकी कृष्ण वेशभूषा में कई तस्वीरें वायरल हुई थी. वे फिर दो दिन के लिए बरसाना आए हैं. वह अपनी श्री वृंदावनी फाउंडेशन से ब्रज को संरक्षित करने का इरादा बना चुके हैं. यह संस्था ब्रज के लिए करीब 15 वर्ष से काम कर रही है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*