कांग्रेस ने फूंका मिशन 2019 का बिगुल, सहयोगी संग 300 सीटों की जीत का बनाया टार्गेट

रविवार को दिल्ली में आयोजित कांग्रेस की बैठक को संबोधित करते राहुल गांधी...

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : कांग्रेस खेमे से बड़ी खबर आ रही है. कांग्रेस ने रविवार को मिशन 2019 को लेकर महत्वपूर्ण फैसला लिया है. यूं कहें कि रविवार को हुई कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में 2019 में होनेवाले लोकसभा चुनाव का बिगुल फूंक दिया. करीब पांच घंटे चली मीटिंग में ​बिहार समेत देश के अलग-अलग राज्यों से आए 35 दिग्गज नेता शामिल हुए. सबों ने अपने-अपने विचार रखे. वहीं सूत्रों के अनुसार कांग्रेस ने 300 सीटों को जीतने का लक्ष्य रखा है.

बैठक के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में सीडब्ल्यूसी की बैठक में 2019 के चुनाव का बिगुल बजा दिया गया है. बैठक में राहुल गांधी ने बताया कि आज मौजूदा माहौल में देश की आकांक्षाओं को तोड़ा जा रहा है. प्रजातंत्र खतरे में है. नरेंद्र मोदी की सरकार देश के महत्वपूर्ण संगठनों पर अतिक्रमण कर रही है. हर जाति और युवाओं के अधिकारों का उल्लंघन हो रहा है. कांग्रेस ही एकमात्र ऐसा संगठन है, जो इस अन्याय के खिलाफ लड़ने के लिए सक्षम है.



सुरजेवाला ने आगे बताया कि यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने कहा कि सत्ताधारी दल के द्वारा देश में नफरत का माहौल देश पर थोपा जा रहा है. पीएम मोदी को पूरा देश देख रहा है कि वह किस तरह अपने पद की गरिमा को ताक पर रख कर उसका उल्लंघन कर रहे हैं. वह इस देश की सच्चाई को देख नहीं पा रहे हैं. कांग्रेस एक ऐसी पार्टी है, जो सं​गठित करती है. कांग्रेस किसी से भेदभाव नहीं करती है. इतना ही नहीं, पार्टी किसानों, महिलाओं, दलितों, पिछड़ों का प्रतिनिधित्व करती है.

कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत ने बैठक में बताया कि हमने 40 साल के जीवन में देश में कभी ऐसा माहौल नहीं देखा. किसी को भ्रम नहीं होना चाहिए. भाजपा के लोग धन-बल का प्रयोग कर रहे हैं. सरकारी मशीन का दुरुपयोग कर रहे हैं. देश में अविश्वास का माहौल बन गया है. इस पर पूरी कार्यसमिति ने चिंता व्यक्त की है. हम एनडीए सरकार को सत्ता से उखाड़ फेंकने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे.

हालांकि सूत्रों की मानें तो कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में 300 सीटों को जीतने के लिए रणीनीति तैयार की गई है. इसके साथ ही बैठक में देश के अलग-अलग मुद्दे उठाए गए. पार्टी का केंद्र भारत के कृषि, युवा, अर्थव्यवस्था, आंतरिक/बाहरी सुरक्षा, एससी/एसटी/ओबीसी महिला और संस्थानों की अखंडता को बनाए रखना है.

सूत्रों का यह भी कहना है कि कांग्रेस नेता सचिन पायलट, शक्ति सिंह गोहिल, रमेश चेन्निथला ने बैठक में कहा कि हमें पार्टियों के साथ रणनीतिक साझेदारी करनी चाहिए. लेकिन, पार्टी को गठबंधन के केंद्र में रहना चाहिए. साथ ही राहुल गांधी को इस गठबंधन का चेहरा बनाना चाहिए.

सूत्रों के अनुसार बैठक में पी चिदंबरम ने 300 सीटों के जीतने का खाका पेश किया. चिदंबरम के अनुसार पार्टी 12 राज्यों में मजबूत है. कांग्रेस अपने नंबरों को तीन गुना बढ़ाकर 150 कर सकती है. बचे हुए राज्यों में पार्टी का क्षेत्रीय पार्टियों के साथ गठबंधन महत्वपूर्ण साबित होगा.