एक छोटा सा तांबे का छल्ला बना देता है आपके बड़े-बड़े काम, पहुंचाता है कई तरह के लाभ

लाइव सिटीज डेस्क : धातुओं का हमारे जीवन में बड़ा महत्व है. विभिन्न प्रकार की धातुएं हमारे शरीर में प्रवाहित हो रहे रक्त से लेकर अस्थि, मज्जा, मस्तिष्क, हृदय सभी को प्रभावित करती हैं. इसीलिए प्राचीन काल से ही सोना, चांदी, तांबा, लोहा, कांसा आदि के आभूषण पहनने की परंपरा रही है.



इन धातुओं के प्रयोग से न केवल रोगों बल्कि कई तरह की परेशानियां दूर की जा सकती हैं. ज्योतिष शास्त्र इसी सिद्धांत को मानते हुए कई तरह की धातुओं के छल्ले पहनने की सलाह देता है. तांबा, पीतल, सोना और चांदी जैसी कई धातु हैं जिनका अपना एक अलग महत्व है. इन धातुओं में कॉपर यानी तांबा एक ऐसी प्राचीन धातु है जिसका इस्तेमाल कई सालों से होता आ रहा है. तांबे में पानी के कीटाणुओं को खत्म करने का एक विशेष गुण है इसलिए तांबे के बर्तन में रखे हुए पानी को पीने की सलाह भी दी जाती है.

आइए जानते हैं तांबे का छल्ला या अंगूठी पहनने के क्या लाभ होते हैं –

तांबे की अंगूठी पहनने से पेट से संबंधित सभी समस्याओं में लाभ होता है. यह पेट दर्द, पाचन में गड़बड़ी और एसिडिटी की समस्याओं में फायदा पहुंचाती है. अगर आप पेचिश की समस्या से परेशान हैं तो तांबे की अंगूठी इस समस्या में आपकी काफी मदद कर सकती है.

तांबे की अंगूठी को ना सिर्फ स्वास्थ्य के लिहाज से फायदेमंद बताया गया है, बल्कि नाखून और त्वचा से संबंधित समस्याओं के उपचार में भी यह फायदेमंद है. इससे पहनने से त्वचा में चमक आती है. अंगुलियों में तांबे की अंगूठी धारण करने से शरीर का ब्लड सर्कुलेशन सुधरता है. ब्लड सर्कुलेशन की कमी से होने वाली स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से भी राहत मिलती है.

कई प्रकार की धातुओं में तांबा एकमात्र ऐसी धातु है जो सबसे प्राचीन मानी गई है. तांबे की अंगूठी पहनने से रक्त की अशुद्धियां दूर होती है और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है. तांबे की अंगूठी शरीर की गर्मी को कम करने में मदद करती है.

इसे पहनने से शारीरिक और मानसिक तनाव कम होता है. इसके साथ ही गुस्से पर नियंत्रण होता है. तांबे की अंगूठी तन और मन दोनों को शांत रखने में मदद करती है. तांबे की अंगूठी ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करती है. ये हाई ब्लड प्रेशर या लो ब्लड प्रेशर से पीडि़त लोगों के लिए बहुत फायदेमंद होती है.

इस अंगूठी को पहनकर आप शरीर के किसी भी भाग में आ रही सूजन को भी कम कर सकते हैं. सूर्य से संबंधित परेशानियों के लिए तांबे को काफी फायदेमंद माना गया है. ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक एक तांबे की अंगूठी पहनकर आप सूर्य से संबंधित सभी रोगों से काफी हद तक निजात पा सकते हैं.

तांबे की अंगूठी का आध्यात्मिक महत्व भी है. आध्यात्मिक मार्ग पर चलने वालों को तांबे की अंगूठी पहनाई जाती है. मुख्य रूप से आध्यात्मिक साधना का मकसद जीवन को सर्वोच्च बिंदु तक ले जाना होता है. जब कोई साधक बहुत तीव्र साधना करत है, तो इस बात की संभावना होती है कि वे अचानक शरीर से मुक्त हो जाएं. लेकिन शरीर पर धातु हो, तो कुछ भी नहीं होता है.

तांबा धातु हमेशा उस प्रक्रिया को बाधित कर देती है क्योंकि वह शरीर के साथ आपका संपर्क मजबूत करता है. कुछ हद तक सोना भी ऐसा करता है. सोना पहनना भी अच्छा माना गया है. तांबे के पात्र में रखा पानी पूर्णतया शुद्ध होता है. इसमें जीरो प्रतिशत बैक्टीरिया होते हैं. इसलिए इस पानी को पीने से कई प्रकार के रोगों में लाभ होता है.

Picture Credits : Google Images and www.copperh2o.com