झारखंड जैसी बदकिस्मती : पूरा हिमाचल डोल रहा था, पर ‘धूमल-धूमल’ नहीं बोल रहा था

लाइव सिटीज डेस्क : गुजरात के साथ ही हिमाचल प्रदेश में भी भाजपा का डंका बज रहा है. इससे बिहार का भी नाम रोशन हुआ है. लेकिन बदकिसमती झारखंड वाला हो गया. आप चौंकें नहीं, यही सच है. पूरा हिमाचल प्रदेश गदगद है. भाजपा अपनी जीत पर फूले नहीं समा रहा है. सबसे बड़ी बात इस जीत का जश्न वो भी मना रहे हैं, लेकिन उनकी अपनी किस्मत पर थोड़ा ग्रहण लग गया. जी हां, बात कर रहे एक्स सीएम प्रेम कुमार धूमल की. इस बार भी वे सीएम कैंडिडेट थे. लेकिन जनता ने ही नकार दिया. वे चुनाव हार गये. अब नये सीएम के नाम पर चर्चा हो सकती है.

आपको यह नारा याद होगा कि जब हिमाचल में चुनाव की घोषणा हुई तो तभी से प्रेम कुमार धूमल चर्चा में आ गये. लेकिन अक्टूबर के लास्ट सप्ताह में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने प्रेम कुमार धूमल के नाम पर मुहर लगा दी. अमित शाह ने प्रेम कुमार धूमल को हिमाचल प्रदेश के सीएम कैंडिडेट के रूप में नाम घोषित कर दिया. इसके बाद तो धूमल फैमिली व उनके समर्थकों में जोश भर गया.



इतना ही नहीं, प्रेम कुमार धूमल के बेटे अनुराग ठाकुर बीसीसीआई में सचिव रह चुके हैं. साथ ही वे भी भाजपा के बड़े नेता हैं. उन्होंने सीएम कैंडिडेट के नाम की घोषणा होते ही जोश के साथ ही प्रचार ही नहीं किया, बल्कि नया नारा भी दिया. अनुराग ठाकुर ने ट्वीट कर कहा कि ‘सारा हिमाचल डोल रहा है, धूमल-धूमल बोल रहा है…’ यह नारा हिमाचल में काफी हिट भी किया. लेकिन बदकिस्मती झारखंड वाली हो गयी. वे अपने विधानसभा क्षेत्र सुजानपुर से हार गये. उन्हें पता ही नहीं चला कि हिमाचल धूमल-धूमल नहीं, बल्कि भाजपा-भाजपा बोल रहा है.

Gujarat Verdict : शत्रुघ्न सिन्हा ने की पीएम मोदी की तारीफ, तो राहुल गांधी को दी बधाई  

#GujaratVerdict : पीएम का ट्वीट- ‘जीता गुजरात, जीता विकास’ 

‘मैं बीजेपी को अभिनंदन नहीं दूंगा, ये जीत बेईमानी से हुई है’ 

#GujaratVerdict : राहुल गांधी ने चुप्पी तोड़ी, कहा- मैं निराश नहीं हूं  

गौरतलब है कि ऐसा ही कुछ झारखंड में हुआ था. झारखंड में बिहार से पहले हुए विधानसभा चुनाव में कुछ इसी तरह का वाकया सामने आया था. जब दूल्हा ही हार गया था. दरअसल झारखंड विधानसभा चुनाव में भी भाजपा ने अर्जुन मुंडा का नाम सीएम कैंडिडेट के रूप में घोषित किया था. लेकिन रिजल्ट आया तो पूरा भाजपा स्तब्ध रह गयी. चुनाव में भाजपा ने बहुमत तो ले आयी, लेकिन सीएम कैंडिडेट अर्जुन मुंडा हार गये. हालांकि ऐसा ही रोचक मामला दिल्ली में भी हुआ था, जब वहां भी भाजपा की सीएम कैंडिडेट ​किरण बेदी आपकी आंधी में हार गयीं.

#GujaratVerdict : गुजरात के नतीजे में नीतीश के लिए खुशी के साथ गम भी

बहरहाल, हिमाचल में भाजपा के सीएम कैंडिडेट प्रेम कुमार धूमल का जो भी हाल हो, लेकिन बिहार वहां भाजपा के सत्ता में आने से काफी खुश है. दरअसल बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय हिमाचल भाजपा के प्रभारी हैं. नगर निगम के चुनाव में भाजपा की मिली प्रचंड जीत से ही वे काफी खुश थे और उनकी मेहनत विधानसभा चुनाव में रंग लायी. बस केवल यही दुख रहा कि धूमल ही हार गये.