#GujaratVerdict : डबल इंजन रटते-रटते डबल डिजिट में आ गयी भाजपा

लाइव सिटीज डेस्क (राजेश ठाकुर) : गुजरात का रिजल्ट आ गया. इस रिजल्ट का डंका पूरे देश में ही नहीं, पूरे वर्ल्ड में बज रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर भाजपा के तमाम नेता काफी गदगद है. इस जीत को लेकर भाजपा के दिग्गज नेता भी बयानों की बाछौर कर दी है. बाजाप्ता प्रेस कॉन्फ्रेंस कर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने तो कांग्रेस पर करारा हमला किया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी गुजरात के विकास का गुणगान करते हुए विपक्ष पर हमला कर दिया. लेकिन सच यही है कि छठी बार भाजपा सत्ता पर काबिज तो हो गयी, पर उसे सबसे कम इसी बार उन्हें सीटें मिली हैं.

गुजरात विधानसभा चुनाव में सभी सीटों का रिजल्ट देर रात तक आ गया. 182 सीटों में से भाजपा को कुल 99 सीटें आयीं. सत्ता में रहते हुए भाजपा को अब तक की ये सबसे कम सीटें हैं. वहीं कांग्रेस ने इसमें बढ़ोतरी की और वे प्लस में चली गयी. कांग्रेस को कुल 77 सीटें मिली हैं. जबकि एक समय था जब भाजपा को गुजरात में 127 सीटें मिली थीं. पॉलिटिकल कॉरिडोर में कहा जा रहा है कि वर्ष 1995 के बाद भाजपा का यह सबसे खराब परफॉर्मेंस है.



इस तरह आया गुजरात का परिणाम

आंकड़े बताते हैं कि वर्ष 1995 में केशुभाई पटेल के नेतृत्व में बीजेपी को 121 सीटें मिली थीं, जबकि कांग्रेस को उस समय 45 सीटें आयी थीं. इसके बाद वर्ष 1998 में चुनाव हुआ. उस समय बीजेपी को 117 सीटें मिली थीं. उस समय कांग्रेस को 53 सीटें आयीं. वर्ष 2002 का चुनाव बीजेपी नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में लड़ा गया और उस समय रिकॉर्ड 127 सीटें भाजपा को मिलीं. उस चुनाव में कांग्रेस सिर्फ 51 सीटें जीतने में कामयाब रही.

Gujarat Verdict : शत्रुघ्न सिन्हा ने की पीएम मोदी की तारीफ, तो राहुल गांधी को दी बधाई  

#GujaratVerdict : पीएम का ट्वीट- ‘जीता गुजरात, जीता विकास’ 

‘मैं बीजेपी को अभिनंदन नहीं दूंगा, ये जीत बेईमानी से हुई है’ 

#GujaratVerdict : राहुल गांधी ने चुप्पी तोड़ी, कहा- मैं निराश नहीं हूं  

#GujaratVerdict : गुजरात के नतीजे में नीतीश के लिए खुशी के साथ गम भी 

झारखंड जैसी बदकिस्मती : पूरा हिमाचल डोल रहा था, पर ‘धूमल-धूमल’ नहीं बोल रहा था

साल 2007 के चुनाव में भी नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में ही चुनाव लड़ा गया. तब भाजपा को 117 सीटें मिलीं. वहीं कांग्रेस ने 59 सीटें हासिल कीं. इसके बाद पिछला चुनाव 2012 में हुआ. इसमें एक सीट भाजपा को लॉस हुई. यानी उसे 116 सीटें आयीं. यहां कांग्रेस ने थोड़ा गेन किया. मतलब उसे 60 सीटें मिलीं. लेकिन इस बार नरेंद्र मोदी पीएम हो गये हैं. इसके बाद भी उन्होंने चुनाव की कमान संभाले रखी. गुजरात में दर्जनों सभाएं कीं. लेकिन स्थिति नहीं संभल सकी. इस बार गुजरात में भाजपा का अब तक का सबसे खराब परफॉर्मेंस रहा. जबकि, इस बार डबल इंजन का नारा दिया जा रहा था. हालांकि डबल इंजन तो लग गया, लेकिन भाजपा डबल डिजिट में आ गयी.