यश भारती पेंशन पाने वाले को झटका, सुरेश रैना, अनुराग कश्यप और नवाजुद्दीन का कटेगा पत्ता

लाइव सिटीज डेस्क : यश भारती पेंशन पर यूपी सरकार का फैसला बॉलीवुड से लेकर क्रिकेट जगत की कई हस्तियों के लिए झटका साबित होगा. यानी अब इन दिग्गज सितारों को पेंशन का लाभ नहीं मिलेगा. योगी सरकार ने समाजवादी पार्टी की सरकार में यश भारती व पद्म सम्मान पाने वालों को पेंशन देने के लिए बनी नियमावली में संशोधन किया है. पेंशन की राशि 50 हजार से घटाकर 25 हजार रुपये प्रति माह कर दी है. दरअसल, सरकार के नए नियम के अनुसार, यश भारती और यूपी के पद्म पुरस्कार से सम्मानित लोगों की पेंशन घटाकर आधी कर दी गई है, इसमें भी यश भारती से सम्मानित सरकारी सेवकों, सरकार के पेंशनरों और आयकरदाताओं को इस पेंशन से बाहर रखा गया है.

कई दिग्गज सितारों की पेंशन बंद हो जाएगी

आयकरदाता न होने की शर्त लगने के बाद बॉलीवुड से लेकर क्रिकेट और संगीत जगत के कई दिग्गज सितारों की पेंशन बंद हो जाएगी. अब तक पेंशन पाने वालों में अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और उनकी पत्नी नादिरा बब्बर, जिमी शेरगिल, राजू श्रीवास्तव, फिल्म निर्देशक अनुराग कश्यप, विशाल भारद्वाज, मुजफ्फर अली, सुधीर मिश्र, संगीतकार समीर, कैलाश खेर, क्रिकेटर सुरेश रैना, आरपी सिंह जैसे सितारे भी शामिल थे.

सरकार बदलने के बाद पेंशन बंद हो गई

हालांकि, 25 हजार पेंशन भी पात्रता पूरी करने के बाद उन्हें ही मिलेगी जो नए प्रारूप पर आवेदन करेंगे. इसके लिए 31 जुलाई अंतिम तिथि तय की गई है. अखिलेश सरकार ने तीन नवंबर 2015 को मासिक पेंशन नियमावली जारी की थी. इसके अंतर्गत यश भारती और प्रदेश के पद्म पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं के लिए 50 हजार रुपये की मासिक पेंशन शुरू की गई थी. सरकार बदलने के बाद पेंशन बंद हो गई.

पेंशन छमाही आधार पर अकाउंट में जाएगी

इसके बाद से लगातार पेंशन शुरू करने की मांग की जा रही थी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी साहित्यकारों-कलाकारों ने मिलकर इसकी मांग की थी. फिलहाल समीक्षा के बाद नई नियमावली जारी कर दी गई है. अब 25 हजार रुपये प्रति माह पेंशन दी जाएगी. पात्र महानुभावों को जीवनपर्यंत पेंशन मिलेगी. पेंशन छमाही आधार पर अकाउंट में जाएगी.

संस्कृति विभाग के निदेशक शिशिर कुमार ने बताया कि विभाग द्वारा यश भारती पुरस्कार से संबंधित महानुभाव, जिनको पूर्व से पेंशन प्राप्त हो रही थी, उनसे कुछ अतिरिक्त सूचनाएं विभाग द्वारा आवेदन प्रारूप के माध्यम से मांगी गई थीं. इस संदर्भ में उनको पेंशन देने के लिए विभाग द्वारा प्रेषित किए गए आवेदन प्रारूप प्राप्त होने की अंतिम तिथि 4 जुलाई से एक सप्ताह निर्धारित की गई. फिर विभाग में आवेदन पत्र प्राप्त होने की अंतिम तिथि 22 जुलाई तक की गई. लेकिन बहुत से लोगों के आवेदनपत्र विभाग में अब तक प्राप्त नहीं हो सके, जिससे आवेदनोत्र जमा करने की अंतिम तिथि को बढ़ाकर 31 जुलाई तक किए जाने का निर्णय लिया गया है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*