तस्‍वीरों की गवाही : भाजपा में शत्रुघ्‍न सिन्‍हा का ‘भौकाल’ खत्‍म हो चुका है, आगे भगवान जाने

-अभिषेक आनंद-

लाइव सिटीज, पटना : पटना साहिब के भाजपा सांसद शत्रुघ्‍न सिन्‍हा को भी अब मान लेना चाहिए कि भाजपा में अब उन्‍हें कोई भाव देने को तैयार नहीं है . भाजपा का भौकाल शत्रुघ्‍न सिन्‍हा के मामले में अब नहीं चलने वाला . केन्‍द्रीय नेताओं की बात छोड़ दें, बिहार के भाजपा नेता भी उनसे बतियाना सीरियस क्राइम जैसा मानने लगे हैं . नीतीश कुमार उनका बिगड़ा काम बना देंगे, ऐसा अनुमान कर पाना भी कठिन है .

शत्रुघ्‍न सिन्‍हा मंगलवार 26 दिसंबर को पटना आये थे . चुनाव जीतने के बाद पटना साहिब के लोगों का हाल जानने आने सांसद का रिकार्ड खराब ही रहा है . लालू प्रसाद का यशगान कर भाजपा में अपने स्‍पेस को और भी खत्‍म कर चुके हैं . मंगलवार को वे स्‍टेशन रोड ओवरब्रिज के उद्घाटन समारोह में शामिल हुए .

नीतीश कुमार के करीब बैठे थे मंत्री नंद किशोर यादव

स्‍टेज पर मुख्‍य मंत्री नीतीश कुमार थे . भाजपा की बात करें तो सुशील कुमार मोदी और नंदकिशोर यादव थे . इनके अलावा भाजपा के दूसरे स्‍थानीय विधायक भी . अब समारोह में शत्रुघ्‍न सिन्‍हा की क्‍या फजीहत हुई, समझने को तस्‍वीरों को देखिए . यह तस्‍वीरें पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव के फेसबुक से ली गई है .

तस्‍वीरों को ठीक से देखिए . बॉडी लैंग्‍वेज को समझिए . कुर्सी की अदला-बदली को देखिए . समारोह में मौजूद रहे लोगों ने देखा कि किसी भी भाजपा नेता ने उन्‍हें नोटिस नहीं किया . बातचीत तो दूर की बात थी . सभी ऐसे कटे-कटे थे, मानों बात कर लेने से वायरल फीवर हो जाएगा .

मंच पर नंदकिशोर यादव के बाद की कुर्सी शत्रुघ्‍न सिन्‍हा के लिए थी . वे इसी पर बैठे . दोनों की बाजुएं आपस में जरुर सट रही थी, पर गलती से भी नंदकिशोर यादव ने शत्रुघ्‍न सिन्‍हा की ओर देखा तक नहीं . मुख्‍य मंत्री नीतीश कुमार की दूसरी ओर डिप्‍टी सुशील कुमार मोदी बैठे थे . वे तो और भी सीरियस बने रहे .

जैसे ही नंद किशोर यादव भाषण देने को गए, कुर्सी बदल नीतीश कुमार से बतियाने आ गए शत्रुघ्न सिन्हा

ऐसा नहीं कि शत्रुघ्‍न सिन्‍हा ने अपनी उपेक्षा को नोटिस नहीं किया . वे जान रहे थे कि आकर फंस गये हैं . पब्लिक भी देख रही है . लेकिन शत्रुघ्‍न सिन्‍हा सांसद के सिवाय बॉलीवुड एक्‍टर भी ठहरे . सो, मौका मिलते ही उन्‍होंने कुर्सी बदली . मंत्री नंदकिशोर यादव स्‍पीच देने को माइक पर चले गये थे .

नंदकिशोर यादव की खाली कुर्सी को देख वे इस पर आ गये . फिर नीतीश कुमार से कुछ बातें की . कोशिश रही कि पब्लिक देख ले कि वे अब भी मुख्‍य मंत्री नीतीश कुमार से बात कर सकते हैं . क्‍या बातें कीं, किसी ने नहीं सुना . नंदकिशोर ने जैसे ही भाषण खत्‍म किया,शत्रुघ्‍न वापस अपनी कुर्सी पर चले गये . लेकिन, नीतीश कुमार को सभी जानते हैं . ऐसे में, यह सबों को पता ही है कि जिन्‍हें नरेन्‍द्र मोदी-अमित शाह पसंद नहीं करते, उनके लिए नीतीश कुमार भी कुछ नहीं करेंगे . ओ मैया गे! पटना में मंत्री नंद किशोर यादव की बेटी के पेट्रोल पंप से सरेशाम लाखों की लूट

भाजपा में भौकाल खत्‍म होने के बाद शत्रुघ्‍न सिन्‍हा किधर के नाव की सवारी करेंगे, अभी ठीक से वे भी नहीं जानते . ऐसा करीबी बताते हैं . पर, राजद संग कांग्रेस की नाव को वे मन से देख रहे हैं . लालू प्रसाद ही नहीं राहुल गांधी के लिए भी कशीदे पढ़ने लगे हैं . आगे, पटना में इनका भविष्‍य क्‍या होगा, भगवान ही जाने .

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*