Big Breaking : मक्का मस्जिद ब्लास्ट केस में असीमानंद समेत सभी 5 आरोपी बरी

स्वामी असीमानंद, सीबीआई , मक्का मस्जिद ब्लास्ट केस , एनआईए, Swami Aseemanand , nia , Mecca Masjid bomb blast , hindu right wing

लाइव सिटीज डेस्क : 11 साल पहले हैदराबाद की प्रसिद्ध मक्का मस्जिद में हुए शक्तिशाली पाइप बम धमाके मामले में आज फैसला सुनाया गया.  सभी आरोपियों को बरी कर दिया गया है. NIA की कोर्ट ने सभी 5 आरोपियों को बरी कर दिया है. एनआईए मामलों की चतुर्थ अतिरिक्त मेट्रोपोलिटन सत्र सह विशेष अदालत ने सुनवाई पूरी कर की और इस मामले में फैसला सुनाया.  देवेंद्र गुप्ता, लोकेश शर्मा, स्वामी असीमानंद, भरत और राजेंद्र चौधरी को आरोपी बनाया गया था.  सबूत के आभाव में बा इज्जत किया बरी.

क्या है पूरा मामला

18 मई 2007 को यानी जुमे की नमाज के दिन मुस्लिम समाज के इस प्रसिद्ध इबादतगाह में हुए ब्लास्ट में 9 लोगों की मौत हो गई थी. इसके अलावा विस्फोट में 58 लोग घायल भी हुए थे. इस मामले में स्वामी असीमानंद समेत कई लोगों को आरोपी बनाया गया था. 2007 में हुए इस ब्लास्ट में स्थानीय पुलिस ने शुरूआती छानबीन की थी. बाद में यह मामला सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया गया था. सीबीआई ने एक आरोपपत्र दाखिल किया. इसके बाद 2011 में सीबीआई से यह मामला राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के पास भेजा गया.

स्वामी असीमानंद, सीबीआई , मक्का मस्जिद ब्लास्ट केस , एनआईए, Swami Aseemanand , nia , Mecca Masjid bomb blast , hindu right wing
मक्का मस्जिद हैदराबाद (ब्लास्ट के बाद की तस्वीर)

आपको बता दें कि ब्लास्ट के बाद पुलिस ने दर्शनकारियों को रोकने के लिए हवाई फायरिंग की थी, जिसमें कई और लोग मारे गए थे. इस घटना में 160 चश्मदीद गवाहों के बयान दर्ज किए गए थे. इन बयानों में पीड़ितों के साथ ही आरएसएस प्रचारकों सहित कई लोगों को शामिल किया गया था.

मामले के आरोपी असीमानंद को अप्रैल 2017 में कोर्ट ने इस शर्त पर जमानत दी थी कि वह हैदराबाद और सिकंदराबाद नहीं छोड़ सकते. पिछले महीने असीमानंद से जुड़े एक दस्तावेज के गायब होने की खबर आई थी. मामले का खुलाास तब हुआ जब कोर्ट के सामने मंगाए गए दस्तावेज सीबीआई के मुख्य जांच अधिकारी एसपी टी राजेश बालाजी ने देखे. हालांकि बाद में दस्तावेज मिल गए थे. सीबीआई ने जिन चश्मदीदों की गवाही दर्ज की थी उनमें से 54 गवाह अब मुकर चुके हैं. इनमें से डीआरडीओ के वैज्ञानिक वदलामनी वेंकट राव भी हैं.

यह भी पढ़ें : कठुआ मामले में अब तक चुप हैं CM नीतीश, तेजस्वी ने कहा- नागपुर से सिग्नल नहीं मिला

About Razia Ansari 1514 Articles
बोल की लब आज़ाद हैं तेरे, बोल जबां अब तक तेरी है

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*