‘इंडियाज मोस्ट वांटेड’ वाले सुहैब इलियासी वाइफ की हत्या मामले में दोषी करार

suhaib-ilyasi
पुलिस की गिरफ्त में पत्नी की हत्या के आरोपी सुहैब इलियासी (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज, नई दिल्ली : भारतीय टेलीविज़न इतिहास के बेहद चर्चित प्रोग्राम रहे ‘इंडियाज मोस्ट वांटेड’ के निर्माता-एंकर सुहैब इलियासी को उनकी पत्नी की मौत मामले में दोषी करार दिया गया है. सुहैब इलियासी को दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट ने इस मामले में दोषी मानते हुए आज शनिवार 16 दिसंबर को फैसला सुनाया है. इलियासी की सजा का एलान 20 दिसंबर को होगा. सुहैब इलियासी की पत्नी की मौत 18 साल पहले 11 जनवरी 2000 को उनके आवास पर हुई थी. पहले इसे आत्महत्या का मामला माना गया. बाद में आरोप सुहैब पर ही लगा और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था.

बता दें कि 90 के दशक में पहले जी टीवी और फिर दूरदर्शन पर प्रसारित हुए ‘इंडियाज मोस्ट वांटेड’ के निर्माता-निर्देशक और एंकर खुद सुहैब इलियासी थे. उनके अनोखे प्रेजेंटेशन स्टाइल ने शो को देश भर में बेहद पॉपुलर बना दिया था. सुहैब इस शो से घर-घर में जाने जाने लगे थे. ‘इंडियाज मोस्ट वांटेड’ को देश का सबसे पहला और सबसे बड़ा लाइव क्राइम शो माना जाता है. इसने पुलिस को 135 अपराधियों को पकड़ने में मदद की. यह सब लाइव टेलीविज़न पर दिखाया जाता रहा. बाद में साल 2005 में इस शो को न्यूज़ चैनल इंडिया टीवी पर फिर से लांच किया गया. हालांकि, इस बार इसे उतनी सफलता नहीं मिली.



अपने जमाने का बेहद चर्चित टीवी शो रहा है ‘इंडियाज मोस्ट वांटेड’
कैंची से हुई थी पत्नी की मौत

सुहैब इलियासी की पत्नी अंजू की मौत कैंची से काटने से हुई थी. मौत के बाद सुहैब ने कथित तौर पर पत्नी की एक दोस्त को फ़ोन कर बताया था कि उसने सुसाइड कर लिया है. बाद में अंजू के परिवारवालों ने सुहैब पर ही दहेज के लिए प्रताड़ित करने और हत्या करने का आरोप लगाया था.मामले की जांच में भी पुलिस को पता चला कि सुहैब और अंजू के बीच दहेज को लेकर अक्सर झगड़ा होता था.

इस मामले में पहले सुहैब को 28 मार्च 2000 को पत्नी को दहेज के लिए प्रताड़ित करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. कहा जा रहा था कि उसने इसी वजह से खुदकुशी की. हालांकि बाद में साल 2014 में दिल्ली हाईकोर्ट ने अंजू की मां की पिटीशन पर ट्रायल कोर्ट को ऑर्डर दिया कि इसे हत्या के मामले के तौर पर भी देखें.

लंदन से काम कर आये थे भारत

बता दें कि सुहैब का जन्म दिल्ली में हुआ था. उन्होंने जामिया मिल्लिया इस्लामिया से जर्नलिज्म की पढ़ाई की. इसके बाद वो लंदन चले गए. वहां टीवी एशिया में काम किया. वो इस चैनल के प्रोग्राम प्रोड्यूसर रहे. बाद में फिर साल 1996 में भारत आये और काम शुरू किया.