राहुल गांधी ने प्रवासियों पर जारी की डॉक्यूमेंट्री, यूट्यूब पर किया शेयर

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : कांग्रेस नेता राहुल गांधी लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों की मुश्किलों को लेकर लगातार केंद्र सरकार पर हमलावर हैं. लॉकडाउन के चलते बड़ी संख्या में मजदूर पैदल ही अपने-अपने राज्यों की ओर लौटने को मजबूर हो गए थे. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने 16 मई को सुखदेव विहार फ्लाईओवर के पास इन मजदूरों से बातचीत की थी. राहुल गांधी ने शनिवार को प्रवासी मजदूरों को लेकर एक डॉक्यूमेंट्री जारी की है.17 मिनट के इस वीडियो की शुरुआत प्रवासी मजदूरों के पलायन के दर्द को दिखाने वाले दृश्यों से किया गया है.

राहुल मजदूरों से पूछते हैं कि उनके पास पैसा है या नहीं? उन्हें कैसे पता चला कि देश में लॉकडाउन जारी है? राहुल ने जिन मजदूरों से बात की है वे यूपी में झांसी के निवासी हैं और हरियाणा की एक फैक्ट्री में काम करते हैं. बातचीत में उन्होंने बताया कि उन्हें एक पैसे की भी मदद नहीं मिली है.

प्रवासियों ने राहुल को बताया कि उनका घर से बाहर निकलना गुनाह हो गया था. पुलिस के अलावा स्थानीय लोग भी उन्हें बाहर निकलने पर मारते थे. पुलिस वाले दो बार आते थे. एक महिला ने भावुक होते हुए राहुल से कहा कि हमें हमारे गांव पहुंचा दीजिए. हमें वापस हरियाणा नहीं पहुंचाना. हमें गांव जाना है. मजदूरों ने बताया कि वे हरियाणा में जहां रहते थे वहां पांच-पाच हजार का सामान छूट गया है जो वापस नहीं आ सकता.

दरअसल राहुल गांधी दिल्ली की सड़कों पर भटकते मजदूरों से मिलने सड़कों पर उतरे थे. फुटपाथ किनारे बैठे मजदूरों से राहुल गांधी ने बातचीत की थी और उनके दुख-दर्द सुने थे. घर वापसी के लिए 700 किमी के पैदल सफर पर निकले इन मजदूरों और इनके जैसे दूसरे मजदूरों के हौसले की कुछ कहानियां राहुल गांधी आज पूरे देश से साझा करेंगे.