हो गया एलान – उत्तर प्रदेश में 38-38 सीटों पर लड़ेगी सपा-बसपा, कांग्रेस के लिए छोड़ा 2 सीट

मायावती और अखिलेश यादव

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : लोकसभा चुनाव से पहले सभी दल गठजोड़ करने में जुट गए है. इस दौरान उत्तर प्रदेश की राजनीतिक गलियारों से बड़ी खबर आ रही है. अखिलेश यादव की सपा और मायावती की बसपा का गठबंधन हो गया है. आज यानी 12 जनवरी को मायावती और अखिलेश यादव ने एक साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसकी घोषणा की. उत्तर प्रदेश में बसपा-सपा 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी . बाकी दो सीटें अन्य सहयोगियों के लिए और दो सीटें कांग्रेस के लिए छोड़ दी जाएंगी.

अखिलेश यादव ने पत्रकारों से कहा कि भाजपा के अहंकार का विनाश करने के लिए सपा-बसपा का मिलना जरूरी था. मैनें कहा था कि इस गठबंधन के लिए अगर दो कदम पीछे भी हटना पड़ा तो हम करेंगे. आज से सपा का कार्यकर्ता यह गांठ बांध ले कि मायावती जी का अपमान मेरा अपमान होगा. हम समाजवादी हैं औऱ समाजवादियों की विशेषता होती है कि हम दुख और सुख के साथ होते हैं. अखिलेश यादव ने कहा कि सपा के सभी कार्यकर्ता समझ लें, मायावती जी का अपमान मेरा अपमान है. भारत मां का कोई भी बेटा अगर ऐसा करता है तो वह गलत है.

यह भी पढ़ें – राबड़ी बोलीं- CBI डायरेक्टर को तमाशा बना दिया मोदी सरकार ने, आलोक वर्मा पर विचार करे देश

मायावती ने सपा-बसपा गठबंधन का ऐलान किया और कहा कि 25 साल बाद हम दोनों पार्टियां एक बार फिर से साथ आए. मायावती ने कहा कि बोफोर्स की वजह से कांग्रेस की सरकार गई थी, अब राफेल की वजह से बीजेपी की सरकार जाएगी. बीजेपी को राफेल ले डूबेगी. मायावती ने कहा, लोकसभा चुनाव में 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी सपा और बसपा, चार सीटों पर नहीं लड़ेगी चुनाव.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस को गठबंधन में शामिल न करने के पीछे कई कारण है. 1975 में कांग्रेस की घोषित इमेरजेंसी थी तो आज बीजेपी राज में अघोषित इमरजेंसी है. गठबंधन में कांग्रेस के साथ का कोई खास फायदा नहीं.

बसपा प्रमुख मायावती ने बीजेपी को जातिवादी पार्टी बताया और कहा कि जनहित में गेस्ट हाउस कांड को किनारे रखते हुए गठबंधन किया. उन्होंने कहा कि देश को जून 1995 की घटना से ऊपर रखते हुए गठबंधन का फैसला लिया है.

About परमबीर सिंह 1348 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*