सुशील मोदी का राबड़ी देवी पर पलटवार, कहा – राजद की पुरानी बोली फूटने लगी

बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राबड़ी देवी पर पलटवार किया है. सुशील मोदी ने ट्वीट कर बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री पर हमला बोला है. मोदी ने मासूमों की मौत को लेकर राबड़ी देवी की तरफ से जारी आंकड़ों पर सवाल खड़ा किया और पूछा कि एक जिम्मेदार पद पर रहते हुए नेता को ऐसा गैर जिम्मेदाराना बयान नहीं देना चाहिए.

सुशील मोदी ने ट्वीटर पर लिखा है कि राजद के लोगों को हाल के लोकसभा चुनाव के दौरान अमर्यादित टिप्पणी और तथ्यहीन आरोप लगाने के कारण जनता ने जीरो पर आउट किया, लेकिन मात्र  22 दिन बाद मौका मिलते ही उनकी पुरानी बोली फूटने लगी.

उन्होंने राबड़ी देवी से पूछा कि वे बतायें कि उनके शासन में मेडिकल कालेजों की क्या दशा थी ? एक पूर्व मुख्यमंत्री से लोग जानने चाहेंगे कि हाल में चमकी बुखार से 1000 बच्चों के मौत के आंकड़ें के आधार क्या है. क्या मौत का मनगढ़ंत आंकड़ें पेश करना किसी जिम्मदार व्यक्ति का काम हो सकता है क्या ?

दरअसल, मंगलवार को राबड़ी देवी ने लगातार पांच ट्वीट करके नीतीश सरकार पर हमला बोला था. उन्होंने चमकी बुखार से मर रहे बच्चों को लेकर कई सवाल पूछे थे.

ये भी पढ़ें : बिहार सरकार के सहकारिता मंत्री ने राजद नेता के घर जाने व फोटो वायरल का किया खंडन
ये भी पढ़ें : बंगाल में बिहारियों पर जुल्म बंद नहीं किया तो हम आवाज उठाते रहेंगे : अजय आलोक

पूर्व सीएम ने कहा कि बिहार में एनडीए 14 साल से राज कर रही है. AES से हर साल हजारों बच्चे मरते हैं. उन्होंने कहा कि बिहार सरकार रोकथाम का कोई उपाय नहीं की है, और टीकाकरण भी नहीं की है. राबड़ी देवी ने कहा कि बिहार का स्वास्थ्य विभाग खुद ICU में है. उन्होंने बिहार सरकार पर कई गंभीर आरोप लगायीं है.

राबड़ी देवी ने कहा कि मुख्यमंत्री जी सदा की तरह मौन है. मुज़फ़्फ़रपुर में 40 बच्चियों के साथ सत्ता संरक्षण में जनबलात्कार किया गया तब भी मौन थे. मुज़फ़्फ़रपुर में ही भाजपाई नेता द्वारा 30 मासूमों को कार से कुचला तब भी मौन और हर वर्ष की भाँति फिर हज़ारों बच्चों की चमकी बुखार से मौत पर भी चुप.

About परमबीर सिंह 1512 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*